खुला दरवाजासंस्कृति

वर्तमान सन्दर्भ में परशुराम

 

  • राजीव कुमार झा 

 

वर्तमान सन्दर्भ परशुराम की कथा शासन और नीति के सामंजस्य की ओर ही संकेत करती है और धर्म के रूप में स्वेच्छाचारिता की जगह पर नियम-विधान की स्वीकार्यता पर प्रकाश डालती है।

हिन्दू पौराणिक कथाओं में विष्णु के दशावतारों मे परशुराम को छठा अवतार माना गया है। आज उनका जन्मदिन और इसी पावन दिवस को भृगुवंशी ब्राह्मणों के एक श्रेष्ठ कुल में ऋषिवर जमदग्नि के सपूत के रूप में धरती पर धर्म की स्थापना के लिए परशुराम का पावन आविर्भाव हुआ था। पौराणिक कथा के अनुसार परशुराम के पिता के पास के पास कामधेनु गाय थी और एक बार उनकी उस गाय को देखकर राजा कार्तवीर्य सहस्रबाहु ने जमदग्नि से उस गाय को पाने की इच्छा प्रकट की लेकिन उन्होंने अपनी इस गाय को उसे देने से इंकार कर दिया। जमदग्नि को अपनी कामधेनु गाय से काफी प्रेम था।

भगवान परशुराम के जीवन से जुडी रोचक ...

परशुराम की कथा के अनुसार राजा सहस्रबाहु निरंकुश और स्वेच्छाचारी क्षत्रिय राजा था और उसने जमदग्नि की इच्छा के विरुद्ध कामधेनु गाय का बलपूर्वक अपहरण कर लिया इससे आहत होकर परशुराम ने सहस्रबाहु को अपने कुठार से मार डाला और कहा जाता है कि राजा कार्तवीर्य सहस्रबाहु के मारे जाने के बाद इसकी प्रतिक्रिया में उनके पुत्रों ने भी परशुराम के पिता जमदग्नि का वध कर दिया। अपने पिता की इस निर्मम हत्या से परशुराम बेहद क्षुब्ध हो गये और उन्होंने धरती पर क्षत्रियों के अत्याचारी शासन को खत्म करने की भीषण प्रतिज्ञा की। परशुराम का उल्लेख महाभारत और रामायण में भी है।

यह भी पढ़ें- जाति पूछो भगवान की 

इस प्रकार परशुराम क्षत्रियों के विरोधी हो गये और इसीलिए कहा जाता है कि उनसे उनके अलौकिक ज्ञान और तेज को पाने के लिए क्षत्रिय नारी कुंती के गर्भ से उत्पन्न कर्ण ने खुद को ब्राह्मण बताकर परशुराम से शिक्षा और स्नेह को पाया था और अपने इस छल और झूठ का भेद खुलने पर परशुराम के कठोर शाप का भी शिकार हुआ था। महाभारत के युद्ध में अठारहवें दिन कर्ण पांडवों से भीषण युद्ध करता हुआ विजय की ओर अग्रसर था तो परशुराम के शाप से ऐन इसी वक्त धरती ने उसके रथ के पहिये को अपना ग्रास बना लिया था और अर्जुन के हाथों वह कुरुक्षेत्र के मैदान में अकालमृत्यु का शिकार हो गया था। परशुराम को कर्ण से पुत्रवत् प्रेम था लेकिन असत्य और प्रपंच से वे घृणा करते थे।

Parshuram Jayanti 2019 : भगवान से पहले जन्में ...

रामायण के सीता स्वयंवर की कथा में शिव के धनुषभंग प्रसंग के बाद राम पर परशुराम के क्रोध और राजा जनक के दरबार में लक्ष्मण के साथ उनके विनोदपूर्ण विवाद के पश्चात क्षत्रियों के प्रति उनका क्षोभ और क्रोध खत्म होता हुआ भी दिखायी देता है। रामायण की इस कथा में राम परशुराम के पुण्य प्रताप के समक्ष नतमस्तक दिखायी देते हैं – ‘ नाथ संभु धनु भंजनिहारा होइहि केउ एक दास तुम्हारा ‘ रामचरितमानस में परशुराम के प्रति राम का यह विनय परशुराम के तपोमय व्यक्तित्व की झलक प्रस्तुत करता है। परशुराम की पौराणिक कथा अपनी संकेत योजना में राजा और उसके कर्म को धर्मसम्मत बनाने की सोच पर जोर देते हुए मूलत: शासन की शास्त्रीय अवधारणा को ही प्रकट करती है और परशुराम शासकों की अनीति और अधर्म के खिलाफ संघर्षरत सच्चे योद्धा प्रतीत होते हैं। राजीव कुमार झा।

 

लेखक शिक्षक और स्वतन्त्र टिप्पणीकार हैं।

सम्पर्क- +918102180299

.

कमेंट बॉक्स में इस लेख पर आप राय अवश्य दें। आप हमारे महत्वपूर्ण पाठक हैं। आप की राय हमारे लिए मायने रखती है। आप शेयर करेंगे तो हमें अच्छा लगेगा।

लोक चेतना का राष्ट्रीय मासिक सम्पादक- किशन कालजयी

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
1 Comment
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments

डोनेट करें

जब समाज चौतरफा संकट से घिरा है, अखबारों, पत्र-पत्रिकाओं, मीडिया चैनलों की या तो बोलती बन्द है या वे सत्ता के स्वर से अपना सुर मिला रहे हैं। केन्द्रीय परिदृश्य से जनपक्षीय और ईमानदार पत्रकारिता लगभग अनुपस्थित है; ऐसे समय में ‘सबलोग’ देश के जागरूक पाठकों के लिए वैचारिक और बौद्धिक विकल्प के तौर पर मौजूद है।
sablog.in




1
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x