Category: उत्तराखंड

बाखली
उत्तराखंड

एकता, सहकार व आपसी प्रेम का प्रतीक ‘बाखली’

 

पहाड़ के समाज की जीवन-संस्कृति और रहन-सहन दोनों अनूठा रहा है। यहां की लोक परंपराएं व रहन-सहन प्रकृति के करीब और सृष्टि से संतुलन बनाने वाली रही है। इसकी झलक पर्वतीय समाज की हाउसिंग कॉलोनियां कही जाने बाखली में देखी जा सकती है। दर्जनों परिवारों को एक साथ रहने के लिए पहाड़ में बनने वाले ये भवन सामूहिक रहन-सहन, एकजुटता और सहयोग की भावना को परिलक्षित करते हैं। इनकी बनावट ऐसी होती थी कि आपदा के समय में एक साथ होकर चुनौतियां का सामना कर सकें।

कुमाऊँ में गाँवों में लोगों के घर ‘बाखली’ में होते हैं। बाखली में रहने की प्रथा उत्तराखण्ड की अपनी है। अन्यत्र कहीं नहीं पायी जाती। एक जाति-बिरादरी के लोग अपने रहने के मकान, गाँव की कृषि भूमि के उत्तर में पहाड़ी की ढलान अथवा ऊँचाई पर एक सीध में सारे मकान एक दूसरे से जुड़े एक कतार में बना लेते हैं। मकानों की इस एक कतार को बाखली कहते हैं। एक गाँव में इस प्रकार दो, तीन या अधिक बाखली हो सकती है। यह प्रचलन मुख्य रूप से सुरक्षा की दृष्टि से तथा सभी भाइयों के परिवार साथ-साथ रहने के कारण चला होगा।

बाखली में मकान समान ऊँचाई के तथा दो मंजिले होते हैं। नीचे की मंजिल में जिसे गोठ कहते हैं पशु बांधे जाते हैं और उनका चारा रखा जाता है। दुमंजिले में परिवार रहता है। दुमंजिला मकान के भी दो खण्ड होते हैं और हर खण्ड (खन) में आगे-पीछे कमरे होते हैं। आगे के कमरे को चाख कहते हैं जो बैठक के काम आता है। इसमें एक-दो खिड़की होती है जिसे ‘छाज’ (छज्जा) कहते हैं। मकान के प्रवेश दो प्रकार के होते हैं।

सामान्यतया बाखली में सभी मकानों के आगे पटागंण होता है जो पटाल (मोटे चपटे पत्थर) बिछाया होता है और उसके आगे एक हाथ चौड़ी दीवाल लगी होती है। जो बैठने के काम करती है और तुलसी थान भी। पटागंण से दुमंजिले तक पत्थरों की सीढ़ी बनी होती है। उसके ऊपर दरवाजा होता है। दूसरे प्रकार के दरवाजे वाले पटागंण से ही खोली बनी होती है जिसमें सीढ़ियाँ निचले मंजिल से सीधे दुमंजिले तक जाती है और उसके बाद दांये-बांये दोनों खण्डों के लिए दरवाजे बने होते हैं। खोली वाले दरवाजे भी कुमाऊँ की विशेषता है, जिनमें दरवाजे के लकड़ी के चौखट में सुन्दर, डिजाइन तथा खाचे बने होते हैं। खोली के ऊपर भी छज्जा सुन्दर डिजाइन में बना होता है।

पहली मंजिल के ऊपर छाजे के आगे पाथरों की सबेली लगभग एक फुट आगे को निकली होती है। जो झाप का काम करती है। दूसरी मंजिल के ऊपर दोनों ओर ढालदार छत होती है जिसे पाथर (पतले पटाल या स्लेट) से छाया जाता है। बाखली के सभी मकानों की धुरी एक सीध में होती हैं। धुरी में सपाट तिरछे पाथर बिछे होते हैं। मकान के भीतरी कमरे में रसोई होती है। रसोई के ऊपर छत में एक 6 इंच गोलाई का जाला धुंआ निकलने और रोशनी आने के लिए खुला होता है। एक सरकने वाले पाथर से इसे बंद किया जा सकता है।

मकानों के आगे की दीवाल पर छत की जो बल्लियाँ लगी होती है उनके बीच के स्थान को तख्तों से बंद किया जाता है और हर बल्ली के बीच के तख्ते में दो तीन इंच लम्बे चौड़े छेद छोड़े जाते हैं। इन छेदों में घरेलू चिड़िया गौरैया जिसे ‘घिनौड़’ कहते हैं अपना घोंसला बनाती है। पहाड़ी के हर पुराने मकानों में चिड़ियों के लिए ऐसी व्यवस्था होती है, जो यहाँ के लोगों के पशु-पक्षी प्रेम को उजागर करती है। दो मकानों के बीच के पटागंण में डेढ़ फुट ऊँची एक हाथ चौड़ी दीवाल होती है और इस दीवाल के बीच पशुओं और लोगों के आने-जाने के लिए रास्ता खुला होता है। बाखली में एक कोने से दूसरे कोने तक किसी के घर भी आने-जाने के लिए कोई रोक-टोक नहीं होती है।

बताया जाता है कि कत्यूर व चंद राजाओं ने भवनों के निर्माण की इस शैली को विकसित किया था। लेकिन आज के अंधाधुंध विकास, गांवों की उपेक्षा और भौगोलिक परिस्थतियों ने बहुत कुछ बदल दिया। कंक्रीट के जंगल में तब्दील होते जा रहे पहाड़ के हरे भरे गांव पलायन की मार झेल रहे हैं। शिक्षा और रोजगार के लिए पलयन के कारण गांव के गांव खाली हो गए। आज आधुनिकतावाद के चलते हम अपनी पहचान खोने लगे हैं।

पहाड़ के गाँवों की बाखलियाँ सामूहिकता में जीने की शानदार मिसालें रही हैं। बहुत सारे परिवार बिलकुल एक दूसरे से सटे मकान बनाकर रहते आये हैं। हर ऐसी बाखली के आगे का बड़ा सा आँगन पीढ़ी-दर-पीढ़ी साझा किये गए सुख-दुःख का गवाह रहा है। बीते दशकों में उत्तराखण्ड की ज्यादातर बाखलियाँ वीरान हो गयी हैं लेकिन आज भी जब कभी ऐसी कोई बाखली आबाद दिख जाती हैं, तो मन खिल जाता है। “ब्रह्मांड में कहीं तो, कुछ तो ऐसा विलक्षण है, जो मनुष्यों के द्वारा जान लिए जाने की प्रतीक्षा कर रहा है

.

25Jan
उत्तराखंडमुद्दा

चुनावी मौसम के बीच वादों और मुद्दों को परखती एक रिपोर्ट

  उत्तराखण्ड में कड़ाके की ठंड, बर्फबारी और बरसात के बीच चुनावी बिगुल भी फूंका...

प्रलय
22Oct
उत्तराखंड

ब्रेक लगाइए, अगले मोड़ पर प्रलय इंतज़ार कर रहा है…

  कहते हैं पहाड़ों पर गाड़ी चलाते मोड़ों में हॉर्न का प्रयोग करें पर जिस तरह से...

चले साथ पहाड़
12Sep
उत्तराखंडपुस्तक-समीक्षा

राजकीय किताब घोषित कर दरबारियों से कहिए ‘चले साथ पहाड़’!

  लेखक ने अपनी किताब की ‘भूमिका’ लिखने के लिए वरिष्ठ लेखक देवेंद्र मेवाड़ी...

05Jul
उत्तराखंड

राजनीतिक प्रयोगशाला के रूप में बदनाम हो रहा उत्तराखण्ड

  नारायण दत्त तिवारी ने उत्तराखण्ड के विकास के लिए नौकरशाही को नियंत्रित...

23Jun
उत्तराखंड

कथित आधुनिक विकास बनाम प्रलय

  उत्तराखण्ड के चमोली जिले में 7 फरवरी 2021 को कुदरत ने 10.30 से 11 बजे के बीच सिर्फ...

23Jun
उत्तराखंड

महाविनाश का आमंत्रण : पंचेश्वर हाइड्रोपावर प्रोजेक्ट

  उत्तराखण्ड में महाकाली नदी पर दुनिया का दूसरा सबसे ऊंचा बाँध बनाने की...

24May
उत्तराखंड

कोरोना से जंग में उत्तराखंड मॉडल पर एक चर्चा

  पहाड़ी प्रदेश उत्तराखण्ड में कोरोना की दूसरी लहर के दौरान बहुत सी जानें...

13May
उत्तराखंडशख्सियत

बसु राय : एक बेसहारा जो पूरी दुनिया के बच्चों का सहारा बना

  नागरिकों को मिलने वाले देश के चौथे उच्च नागरिक सम्मान पदमश्री के बारे में...

12May
उत्तराखंड

महामारी के इस दौर में स्वरोज़गार के लिए प्रेरित करती एक कहानी

  महामारी की पहली लहर के बाद जब लगा था कि हालात अब सुधरने लगे हैं तभी दूसरी लहर...