शख्सियत

गोवा मुक्ति संग्राम के योद्धा ‘मधु लिमये’

 

गोवा मुक्ति संग्राम का अन्तिम चरण आज से लगभग 75 वर्ष पूर्व समाजवादी नेता डॉ राममनोहर लोहिया द्वारा 18 जून 1946 को शुरू किया गया था। इसके लगभग पन्द्रह वर्ष बाद 18-19 दिसम्बर 1961 को गोवा, भारत सरकार द्वारा एक सैन्य ऑपरेशन ‘विजय’ के ज़रिये आज़ाद कराया गया। इस तरह यह वर्ष गोवा मुक्ति संग्राम के शुरुआत की 75 वीं सालगिरह और गोवा मुक्ति की 60 वीं वर्षगांठ का साल है। गोवा को पुर्तगालियों की ग़ुलामी से निजात दिलाने के लिए 1946 से लेकर 1961 के बीच अनगिनत हिन्दुस्तानियों ने अपनी जान की क़ुर्बानियां दीं। बहुत सारे लोग बरसों पुर्तगाली जेलों में रहे और उनकी यातनायें सहीं उनमें से एक वीर सपूत का नाम मधु रामचंद्र लिमये (01-05-1922-08-01-1995) है जिनका आज 99 वां जन्मदिन है।

स्व. मधु लिमये आधुनिक भारत के उन विशिष्टतम व्यक्तित्वों में से एक थे जिन्होंने पहले राष्ट्रीय आन्दोलन और स्वतन्त्रता आन्दोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई जेल गये और बाद में पुर्तगालियों से गोवा को मुक्त कराकर भारत में शामिल कराने में अहम रोल अदा किया। गोवा आज भारत का हिस्सा है तो इसका एक बड़ा श्रेय डॉ. राममनोहर लोहिया और उनके प्रिय शिष्य मधु लिमये को जाता है। Madhu Limaye - Profile, Biography and Life History | Veethi

मधु लिमये का जन्म 1 मई, 1922 को महाराष्ट्र के पूना में हुआ था। कम उम्र में ही उन्होंने मैट्रिक की परीक्षा पास कर ली थी। अपनी स्कूली शिक्षा के बाद, मधु लिमये ने 1937 में पूना के फर्ग्युसन कॉलेज में उच्च शिक्षा के लिए दाखिला लिया और तभी से उन्होंने छात्र आन्दोलनों में भाग लेना शुरू कर दिया। इसके बाद, मधु लिमये एस एम जोशी, एन जी गोरे वगैरह के सम्पर्क में आए और अपने समकालीनों के साथ-साथ राष्ट्रीय आन्दोलन और समाजवादी विचारधारा के प्रति आकर्षित हुए। 

1939 में, जब दूसरा विश्व युद्ध छिड़ा, तो उन्होंने सोचा कि यह देश को औपनिवेशिक शासन से मुक्त करने का एक अवसर है। लिहाज़ा अक्टूबर 1940 में, मधु लिमये ने विश्व युद्ध के खिलाफ अभियान शुरू कर दिया और अपने युद्ध विरोधी भाषणों के लिए गिरफ्तार कर लिए गये। उन्हें लगभग एक वर्ष के लिए धुलिया जेल में डाल दिया गया। मधु लिमये को सितम्बर, 1941 में रिहा किया गया। अगस्त 1942 में, अखिल भारतीय कांग्रेस कमिटी ने जब बंबई में अपना सम्मेलन आयोजित किया, जहाँ महात्मा गाँधी ने ‘भारत छोड़ो’ का आह्वान किया तो मधु लिमये वहाँ मौजूद थे। यह पहला मौका था जब मधु लिमये ने गाँधीजी को करीब से देखा।

उसी समय गाँधीजी सहित कांग्रेस पार्टी के कई वरिष्ठ नेताओं को गिरफ्तार कर लिया गया। मधु अपने कुछ सहयोगियों के साथ भूमिगत हो गये और अच्युत पटवर्धन, उषा मेहता और अरुणा आसफ अली के साथ भूमिगत प्रतिरोध आन्दोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। सितम्बर, 1943 में मधु लिमये को एस एम जोशी के साथ गिरफ्तार कर लिया गया। उन्हें ‘डिफेंस ऑफ इंडिया रूल्स’ के तहत गिरफ्तार किया गया था और जुलाई 1945 तक वर्ली, यरवदा और विसापुर की जेलों में बिना किसी मुकदमे के हिरासत में रखा गया।

गोवा मुक्ति आन्दोलन 

मधु लिमये ने 1950 के दशक में, गोवा मुक्ति आन्दोलन में भाग लिया, जिसे उनके नेता डॉ. राममनोहर लोहिया ने 1946 में शुरू किया था। उपनिवेशवाद के कट्टर आलोचक मधु लिमये ने जुलाई 1955 में एक बड़े सत्याग्रह का नेतृत्व किया और गोवा में प्रवेश किया। पेड़ने में पुर्तगाली पुलिस ने हिंसक रूप से सत्याग्रहियों पर हमला किया, जिसके परिणामस्वरूप बड़े पैमाने पर सत्याग्रहियों को चोटें आईं। पुलिस ने मधु लिमये की बेरहमी से पिटाई की। उन्हें पांच महीने तक पुलिस हिरासत में रखा गया था। दिसम्बर 1955 में, पुर्तगाली सैन्य न्यायाधिकरण ने उन्हें 12 साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई। लेकिन मधु लिमये ने न तो कोई बचाव पेश किया और न ही भारी सजा के खिलाफ अपील की।

जब वह गोवा की जेल में थे तो उन्होंने लिखा था कि ‘मैंने महसूस किया है कि गाँधीजी ने मेरे जीवन को कितनी गहराई से बदल दिया है, उन्होंने मेरे व्यक्तित्व और इच्छा शक्ति को कितनी गहराई से आकार दिया है।’ 1957 में पुर्तगाली हिरासत से छूटने के बाद भी मधु लिमये ने गोवा की मुक्ति के लिए जनता को जुटाना जारी रखा और विभिन्न वर्गों से समर्थन मांगा तथा भारत सरकार से इस दिशा में ठोस कदम उठाने के लिए आग्रह किया। जन सत्याग्रह के बाद, भारत सरकार गोवा में सैन्य कार्रवाई करने के लिए मजबूर हुई और गोवा पुर्तगाली शासन से मुक्त हुआ। दिसम्बर 1961 में गोवा आजाद हो कर भारत का अभिन्न अंग बना। गोवा मुक्ति दिवस: जब 36 घंटे में सेना ने 450 साल के पुर्तगाली शासन को तबाह कर दिया

गोवा मुक्ति आन्दोलन के दौरान मधु लिमये ने पुर्तगाली कैद में 19 महीने से अधिक का समय बिताया। अपनी इस कैद के दौरान उन्होंने एक जेल डायरी लिखी जिसे उनकी पत्नी श्रीमती चंपा लिमये ने एक पुस्तक ‘गोवा लिबरेशन मूवमेंट एंड मधु लिमये’ के रूप में 1996 में गोवा आन्दोलन की स्वर्ण जयंती के अवसर पर प्रकाशित किया। अब आई टी एम यूनिवर्सिटी ग्वालियर द्वारा उसका दोबारा प्रकाशन किया गया है। इस किताब में स्व. मधु लिमये द्वारा पुर्तगाली क़ैद में बिताये गये दिनों का रोज़नामचा तो है ही साथ ही अपनी पत्नी और एक साल के बेटे अनिरुद्ध उर्फ़ ‘पोपट’ को लिखे गये कुछ मार्मिक और दिल को छू लेने वाले पत्र भी शामिल हैं।

साथ ही अस्सी के दशक में उनके द्वारा गोवा पर लिखे गये दो लम्बे लेख और पचास के दशक में तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू द्वारा संसद में गोवा पर दिये गये भाषण और बयान भी शामिल किये गये हैं। दिलचस्प बात तो यह है अपने इन बयानों में नेहरू जी गोवा में की जाने वाली किसी भी संभावित सैनिक कार्यवाई का विरोध करते हैं और कहते हैं कि ऐसी कार्यवाई अहिंसा और शांति के भारत के सिद्धांत के ख़िलाफ़ होगी।

भारतीय संविधान और संसदीय मामलों के ज्ञाता मधु लिमये, 1964 से 1979 तक चार बार लोकसभा के लिए चुने गये। उन्हें संसदीय नियमों की प्रक्रिया और उनके उपयोग तथा विभिन्न विषयों की गहरी समझ थी। स्वस्थ लोकतांत्रिक लोकाचार से प्रतिबद्ध होने के कारण, वह हमेशा अपने सिद्धांतों के साथ खड़े रहे और असामान्य राजनीतिक परिस्थितियों के दौरान भी अपने मूल्यों से कभी समझौता नहीं किया। मधु लिमये ने जेपी आन्दोलन 1974-75 के दौरान और बाद में एकजुट विपक्षी पार्टी (जनता पार्टी) बनाने के प्रयासों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। जनता पार्टी के गठन के बाद 1 मई, 1977 को उनके 55 वें जन्मदिन पर उन्हें पार्टी का महासचिव चुना गया। मधु लिमये: बिहार से चार बार लोकसभा चुनाव जीतने वाले मराठी शख़्स - BBC News हिंदी

स्वतन्त्रता आन्दोलन में उनके सराहनीय योगदान और गोवा मुक्ति आन्दोलन में उनकी भूमिका के लिए भारत सरकार ने मधु लिमये को स्वतन्त्रता संग्राम सेनानी सम्मान पेंशन की पेशकश की लेकिन उन्होंने विनम्रता के साथ इसे अस्वीकार कर दिया। उन्होंने संसद के पूर्व सदस्यों को दी जाने वाली पेंशन को भी स्वीकार नहीं किया। मधु लिमये एक प्रतिष्ठित स्वतन्त्रता संग्राम सेनानी के साथ साथ प्रतिबद्ध समाजवादी के रूप में भी हमेशा याद किये जायेंगे जिन्होंने निस्वार्थ और बलिदान की भावना के साथ देश देश की सेवा की। संक्षिप्त बीमारी के बाद 72 वर्ष की आयु में 8 जनवरी, 1995 को मधु लिमये का नयी दिल्ली में निधन हो गया। उनके निधन से देश ने एक सच्चे देशभक्त, राष्ट्रवादी, प्रसिद्ध विचारक, समाजवादी नेता और एक प्रतिष्ठित सांसद को खो दिया।

.

Show More

कुर्बान अली

लेखक वर्षों बीबीसी से सम्बद्ध रहे वरिष्ठ पत्रकार हैं। सम्पर्क +919899108838, qurban100@gmail.com
5 2 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Related Articles

Back to top button
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x