सामयिक

एक एहसास है ये ; रूह से महसूस करो

 

आखिर वह दिन आ ही गया जिसका लोगों, खासतौर पर युवा वर्ग को इंतजार था। वसंत के उत्सवी माहौल में रंगा यह मौसम इतना खुशनुमा होता है कि हर कोई सुखद एहसास में डूबा दिखता है। होली के रंगों से पूर्व, के रंग में रंगें लोगों का उत्साह देखते बनता है, लेकिन इस उत्साह का एक अलग ही रूप हमारे सामने खड़ा होता जा रहा है।

कुछ दिन पहले वाट्सअप पर एक संदेश मुझे मिला, जिसमें एक नवविवाहित जोड़े की कहानी बयां गयी थी। यह कहानी कुछ इस प्रकार थी कि एक प्रेमी युगल ने लंबे समय के प्रेम के बाद विवाह बंधन में बंधने का निर्णय लिया। दोनों का वैवाहिक जीवन बुहत ही अच्छे से गुजर-बसर हो रहा था। एक दिन अचानक पत्नी को पता चला कि उसे चर्म रोग (त्वचा की बीमारी) हो गया है। इस रोग का नाम सुनते ही पत्नी के पांव तले से जैसे जमीन ही खिसक गयी हो। वह पूरे तरीके से यह सोचकर डर गयी कि जो पति उसकी सुन्दरता के आगे मंत्र-मुग्ध होकर दिनभर बखान करते नहीं थकता, वह पति उसकी खूबसूरती के नहीं होने पर उसे कैसे अपनायेगा और उसे वही प्यार कैसे देगा? लेकिन इसके पहले वह अपने पति को कुछ बता पाती उसे पता चलता है कि उसके पति का एक्सीडेंट हो गया है और उसकी आंखें चली गयी है। अब पत्नी ने पति को कुछ नहीं बताना ही ठीक समझा और वह अपनी पति की आंखें बनकर उसकी सहायता करने लगी। दोनों का जीवन फिर से खुशहाल पटरी पर चलने लगी, लेकिन अचानक एक दिन पत्नी की मृत्यु हो गयी। पत्नी की मृत्यु के बाद पति शहर छोड़कर जाने का निर्णय लेता है। इस पर पड़ोसी ने पति से पूछा कि अबतक तो तुम अपनी पत्नी के सहारे जी रहे थे, लेकिन अब बिना आंखों के तुम कैसे जी पाओगे?” इस पर जवाब देते हुये, वह कहता है कि मैं कभी अंधा था ही नहीं। मैंने तो अपनी पत्नी की खुशी के लिये सिर्फ अंधे होने का नाटक किया था, क्योंकि मेरी पत्नी की खूबसूरती चली गयी थी और वह इस रूप में मेरे सामने आकर कभी खुश नहीं रह सकती थी, इसलिए मैंने झूठ बोला क्योंकि मैं उसे हमेशा खुश देखना चाहता था, क्योंकि वे बहुत ही अच्छी थी, उसकी खूबसूरती से मुझे कोई लेना-देना नहीं था।

यह कहानी आज के युवा वर्ग के लिये बहुत ही बड़ा संदेश है जो प्यार हो या विवाह, मन न देखकर तन और रंग को देखकर करते हैं। यह वही युवा हैं जो जब प्यार में होते हैं तो पूरी दुनिया इन्हें खूशनुमा दिखता है और प्यार में जैसे ही खींचतान शुरू हुआ, या यों कह लें कि ब्रेकअपहुआ तो सीधे आत्महत्या को अपना मुकाम बना लेते हैं। सिर्फ यही नहीं जो लोग प्रेम में यह कहते फिरते हैं कि तुम्हारे सिवा कुछ न चाहत करेंगे, जबतक जीयेंगे मोहब्बत करेंगे।ऐसे जोडे़ भी अचानक यह कहने लगते हैं कि मेरे दुश्मन तू मेरी दोस्ती को तरसे, मुझे गम देने वाले तू खुशी को तरसे।और इसी भावना से ग्रसित युवक-युवतियां कभी-कभी तो एसिड अटैक (तेजाब से हमला) तक को अंजाम दे देते हैं। यह विचारणीय है कि जिसके लिये हम मर-मिटने को तैयार हो जाते हैं, अपने रिश्ते-नाते, मां-बाप सबको छोड़ने में भी कोई गुरेज नहीं करते, अचानक उसी को मारने-मिटाने के लिए कैसे उतारू हो जाते हैं।

मैं अक्सर यह सोचती हूँ कि जिस रिश्ते की शुरूआत ही हम परायी भाषा के माध्यम से अर्थात् आई लव यूकहकर करते हों, वहां अपनेपन का एहसास कहां से आ सकता है? क्योंकि परायी चीजों के माध्यम से कभी अपनत्व का एहसास नहीं पाया जा सकता है और जब अपनत्व का भाव नहीं होगा, तो वहां हम किसी-न-किसी स्वार्थ से ही जुड़ पायेंगे और जिस दिन स्वार्थ पूरा नहीं होगा, उस दिन रिश्ते की आहूति देने में क्षणभर भी नहीं लगेगा। अगर हम थोड़े प्राचीन इतिहास पर नजर दौड़ायें तो कभी किसी को प्रेम का इजहार करते नहीं पाया गया और ना हीं हमारे दादा-दादी, माता-पिता ने प्रेम का कभी इजहार किया था, क्योंकि प्रेम को तो सिर्फ एहसास किया जा सकता है, बयां नहीं। इसलिए कहा गया है कि एक एहसास है ये रूह से महसूस करो।इस एहसास को शब्दों में नहीं पिरोया जा सकता है।

यदि हम मिथक और इतिहास की बात करें तो यह वह देश है, जहां कृष्ण और राधा की पूजा की जाती है, कृष्ण और रूक्मिणी की पूजा कहीं नहीं देखी जाती है, जबकि दोनों पति-पत्नी के रूप में इतिहास में दर्ज हैं। राधा-कृष्ण के प्रेम को निस्वार्थ प्रेम की मूर्ति समझा जाता है जिसे प्रेम में लीन हर व्यक्ति पूजना चाहता है तो फिर ऐसे देश में प्रेम में हिंसा कैसे हो सकता है? प्रेम करने वाले लोग इतने हिंसात्मक कैसे हो जाते हैं?

हमारे देश और आस-पास के लोग जो प्रेम में लीन है, उन्हें ये समझना होगा कि प्रेम कभी कुछ लेता नहीं है, बल्कि सदैव देता है। प्रेम में डूबा व्यक्ति अपना सर्वस्व न्योछावर करने के लिये तैयार रहता है। वहां धन-दौलत, शादी, शारीरिक आकर्षण आदि जैसी चीजें कभी कोई महत्व रख ही नहीं सकता है और अगर ऐसा होता है तो वहां प्रेम कम और स्वार्थ ज्यादा होगा, जो पूरा नहीं होने पर एसिड अटैक से अंजाम तक पहुंचाया जायेगा।

वर्तमान समय में युवाओं पर वेलेंटाइन डेका जिस तरीके से खुमार छाया रहता हैवह निश्चय ही एक खतरे का संकेत है जो प्रेम को सिर्फ प्रेमी युगल तक बांध देते हैं और तमाम तरीके की फुहड़ता परोसते हैं, साथ ही बाजादवाद की मांग को भी पूरा करते हैं। लेकिन प्रेम का असली रूप यह हो ही नहीं सकता। प्रेम में डूबा व्यक्ति हमेशा आगे बढ़ता रहा है, उसका पतन शायद ही कभी हुआ है। लेकिन वर्तमान परिदृश्य पर हम यदि नजर दौड़ाएं तो नजारा कुछ और ही होता है। अब प्रेम में डूबा व्यक्ति सबकुछ भूलकर प्रेम में ही रहना चाहता है और वह यह भूल जाता है कि प्यार से भी जरूरी कई काम है, प्यार सबकुछ नहीं जिंदगी के लिए।

हमारे देश में प्रेम के एक दिवस के रूप में वेलेंटाइन डेको तो अपना लिया गया लेकिन इसके संदर्भ को नहीं अपनाया गया। कहीं प्रेम के नाम पर लोग हिंसा करते हैं तो कहीं वेलेंटाइन डेको सभ्यता-संस्कृति के लिए नुकसान बताकर सभ्यता-संस्कृति के ठेकेदार हिंसात्मक रूप धारण कर लेते हैं, और संत वेलेंटाइन की प्रासंगिकता और संदर्भों की आहूति देने में कोई कसर नहीं छोड़ते हैं, जिसके  कारण यह प्रेम दिवस हिंसात्मक दिवस के रूप में भी उभरने लगा है। जहां मन-से-मन का प्रेम वंचित होता जा रहा है और हम मन को न देखकर बाकी सबकुछ देख रहे हैं, जो प्रेम का एक विकृत रूप तो हो सकता है, किंतु इसे प्रेम की संज्ञा देना बेईमानी होगी।

.

कमेंट बॉक्स में इस लेख पर आप राय अवश्य दें। आप हमारे महत्वपूर्ण पाठक हैं। आप की राय हमारे लिए मायने रखती है। आप शेयर करेंगे तो हमें अच्छा लगेगा।

लेखिका गुरू घासीदास केन्द्रीय विश्वविद्यालय, बिलासपुर (छ.ग.) में सहायक प्राध्यापक हैं | सम्पर्क- +919406009605, amitamasscom@gmail.com

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
2 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments


डोनेट करें

जब समाज चौतरफा संकट से घिरा है, अखबारों, पत्र-पत्रिकाओं, मीडिया चैनलों की या तो बोलती बन्द है या वे सत्ता के स्वर से अपना सुर मिला रहे हैं। केन्द्रीय परिदृश्य से जनपक्षीय और ईमानदार पत्रकारिता लगभग अनुपस्थित है; ऐसे समय में ‘सबलोग’ देश के जागरूक पाठकों के लिए वैचारिक और बौद्धिक विकल्प के तौर पर मौजूद है।
sablog.in



विज्ञापन

sablog.in






2
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x