सामयिक

इक्कीसवीं सदी में महिला सशक्तिकरण, साहित्य और समाज

 

साहित्य की अवधारणा समाज के बिना सम्भव नहीं है। यह समाज से प्रभावित होता है और समाज भी साहित्य से प्रभावित होता है। साहित्य सामाजिक विषय को ध्यान में ही रख लिखा जाता है। विषय वस्तु और स्वरुप के मामले में समय के साथ फिक्शन भी बदल गया है। उपन्यास में बौद्धिक और कलात्मक परिवर्तनों के कारण, नए रुझान और विचार विषय बन गये। आधुनिक रुझानों में एक महत्वपूर्ण प्रवृत्ति स्त्रीत्व है। महिलाओं के अधिकारों, सामाजिक समानता और कानूनी संरक्षण के लिए आन्दोलन करने को नारीवाद कहा जाता है। इनमें समानता, विरासत, संप्रभुता, अभिव्यक्ति की स्वतन्त्रता और घरेलू उत्पीड़न से सुरक्षा जैसे अधिकार और मुद्दे शामिल हैं।

नारीवाद का विचार पश्चिम से आया है। यह विचारधारा महिलाओं के राजनीतिक और सामाजिक अधिकारों की बहाली के लिए अस्तित्व में आई, लेकिन धीरे-धीरे इसने एक आन्दोलन का रूप ले लिया। इसके माध्यम से महिलाओं से सम्बन्धित सभी समस्याओं का समाधान किया जाने लगा। पूर्व में, यह आन्दोलन उन्नीसवीं शताब्दी के मध्य में पहुंचा।  मानवाधिकारों के हनन के जवाब में विरोध स्वाभाविक है। जब महिलाओं का उत्पीड़न अपने चरमोत्कर्ष पर पहुँचा गया, तो पश्चिम में नारीवाद के रूप में एक महत्वपूर्ण प्रगति हुई।क्या आप 'नारीवादी' (feminist) हैं? आपके लिए 'नारीवाद' (feminism) की परिभाषा क्या है, उसके मायने क्या हैं? - Quora

पूर्व में, आन्दोलन ने बीसवीं शताब्दी में महत्वपूर्ण सफलता हासिल की। 19 वीं सदी से पहले, महिलाओं की आकांक्षाओं,  भावनाओं, पसन्द और नापसन्द को वैश्विक स्तर पर महत्व नहीं दिया जाता था, लेकिन धीरे-धीरे सामाजिक जागरूकता आई और महिलाओं ने न केवल अपनी आकांक्षाओं को पूरा किया, बल्कि पितृसत्तात्मक व्यवस्था को उत्पीड़न की प्रणाली के रूप में व्याख्यायित किया। उन्होंने इसके खिलाफ आवाज उठाई और सामाजिक और राजनीतिक मुद्दों पर भी अपने विचार व्यक्त किए।

पितृसत्तात्मक समाज के सामने एक जीवित और सक्रिय शैली के रूप में उपन्यास लेखन की स्वीकृति और महिलाओं की मुक्ति के पक्ष में तेजी से बदलती परिस्थितियों और स्त्री जागरूकता के संदर्भ में महिलाओं के अधिकारों को समझने का प्रयास किया गया। संयुक्त राज्य अमेरिका और ब्रिटेन के बीच पहला संघर्ष धीरे-धीरे पूरे पश्चिम और फिर पूर्व में फैल गया। इस आन्दोलन ने महिलाओं में जागरूकता पैदा की और इस तरह नारीवादी आन्दोलन अस्तित्व में आया।

महिलाओं की शिकायत है कि न केवल उर्दू साहित्य बल्कि हर साहित्य के इतिहास में महिलाओं को पुरुष लेखकों के बाद प्रस्तुत किया गया है। क्योंकि यह समाजशास्त्र के इतिहास का एक मनोवैज्ञानिक पहलू है और दुनिया की विभिन्न भाषाओं पर इसका प्रभाव प्रमुख है। जब प्रगतिशील आन्दोलन अपने चरम पर था, तब आन्दोलन से जुड़ी महिलाओं के लेखन की आलोचना, टिप्पणी और चर्चा हुई। रशीद जहाँ, सालेहा आबिद हुसैन, कुर्रतुल ऐन हैदर, जिलानी बानो, रजिया सज्जाद ज़हीर, इस्मत चुगताई साहित्यिक क्षेत्रों में प्रसिद्ध थीं और आज भी प्रासंगिक हैं।नारीवाद का अर्थ पुरुषों का विरोध कतई नहीं है ;बल्कि इसका अर्थ नारियों का समर्थन है। | #freedomfrombias, सामजिक समस्याएं, #eachforequal, पेरेंटिंग स्टाइल ...

दुनिया के हर कोने में महिलाओं ने सभ्यता, समाज, विज्ञान और दर्शन, राजनीति और भाषा और साहित्य में अपनी क्षमताओं का सार दिखाया है।  पुरुष लेखकों ने भी अपने लेखन में महिलाओं की अवधारणा, स्थिति और समस्या को जगह दी है। इनमें प्रेमचंद, राजेन्द्र सिंह बेदी, सरशार, नजीर अहमद, मिर्ज़ा मुहम्मद हादी रुसवा, अब्दुल हलीम शरर, राशिद उल खैरी आदि ने अपने-अपने तरीके से महिलाओं की भूमिका को उजागर किए हैं। इन लेखकों की रचनाओं में महिला केंद्रीय स्थिति में है। नारीवादी आन्दोलन अधिकारों और समानता के साथ-साथ रिश्ते में स्थिरता बनाता है। समलैंगिकता, वेश्यावृत्ति, परिवार नियोजन, गर्भनिरोधक और गर्भपात के खिलाफ विरोध भी इसका मुख्य उद्देश्य है।

“साहित्य सामाजिक परिवर्तन का एक जीवन्त दस्तावेज है। 21 वीं सदी में हुए सामाजिक, पारिवारिक और व्यक्तिगत परिवर्तनों का हिन्दी और उर्दू साहित्य दोनों पर गहरा प्रभाव पड़ा है। शैक्षिक जागरूकता ने महिलाओं में सामाजिक जागरूकता पैदा की है। उन्होंने प्राचीन परम्पराओं को छोड़ दिया है और स्वायत्तता को प्राथमिकता दी है। आधुनिक समय में, महिलाएँ अपने सही स्थान की तलाश में तेजी से आत्म-ज्ञान की ओर बढ़ रही हैं।

भारतीय समाज में शुरुआत से ही पुरुषों का वर्चस्व रहा है। महिलाओं के साथ हमेशा अलग तरह से व्यवहार किया जाता रहा है। महिलाओं को अपनी इच्छाओं के अनुसार कार्य करने की सख्त मनाही थी। यह माना जाता था कि उसे हर कदम पर पुरुषों के समर्थन की आवश्यकता होगी, लेकिन आज की महिलाओं की भूमिका केवल गृहिणियों तक सीमित नहीं है, बल्कि वे हर क्षेत्र में अपनी उपस्थिति महसूस कर रही हैं, चाहे वह व्यापार हो या अर्थव्यवस्था, राजनीति। या महिला साहित्य ने साबित कर दिया है कि वे ऐसा कुछ भी कर सकती हैं जिसे पुरुष अपनी श्रेष्ठता मानते हैं।Інтерсекціональний фемінізм: визначення, особливості та цікаві факти

महिलाओं की जागरूकता सम्बन्धी बातें और नीतियाँ शहरों तक ही सीमित हैं। एक ओर, बड़े शहरों की महिलाएँ शिक्षित, आर्थिक रूप से स्वतन्त्र, नयी सोच वाली और उच्च पदों पर आसीन होती हैं जो किसी भी परिस्थिति में पुरुषों के उत्पीड़न को सहन नहीं करती हैं। तो दूसरी ओर जिन महिलाओं में इसके बारे में कोई जानकारी और विशेष जागरूकता नहीं है। वे शोषण, उत्पीड़न और सामाजिक बाधाओं के इतने आदी हो गयी हैं कि वह इसके खिलाफ आवाज उठाने से डरती हैं। ऐसी महिलाओं ने इसे अपनी नियति मान लिया है। 

महिला सशक्तीकरण के लिए नयी सलाह दी जाती है। अक्सर कहा जाता है कि किसी भी देश का विकास तभी हो सकता है, जब उस देश की महिलाओं को इसके बारे में पूरी तरह से जागरूक किया जाए। उन्हें हर संस्था और सेक्टर में आने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। वर्तमान समय में महिला सशक्तिकरण का उल्लेख यह साबित करता है कि महिलाएँ अभी तक पूरी तरह से सशक्त नहीं हुई हैं। अगर हम ऐसा सोचते हैं कि भारत एकमात्र ऐसा देश है, जहाँ महिलाएँ घर तक सीमित हैं, तो ऐसा बिल्कुल नहीं है। भारत के अलावा, दुनिया के नक्शे पर कई देश हैं जहां महिलाओं का विकास और जागरूकता नहीं के बराबर है।

हमारे देश में महिलाओं की स्थिति का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि भारत में अभी भी कई गाँव ऐसे हैं जहाँ महिलाओं का जीवन घर की सीमाओं के भीतर ही सीमित है। हमारे देश में कामकाजी महिलाओं की संख्या अन्य देशों की तुलना में कम है। अधिकांश शिक्षित महिलाएँ अभी भी अपने अधिकारों के लिए बहुत कुछ करने की स्थिति में नहीं हैं।  महिलाओं को सशक्त बनाना एक महत्वपूर्ण सामाजिक मुद्दा है। अगर हम अपने समाज को मजबूत बनाना चाहते हैं, तो हमें महिलाओं को मजबूत बनाने की जरूरत है। महिलाओं की जागरूकता का मतलब है कि आप एक परिवार के विकास के लिए काम कर रहे हैं। अगर वह शिक्षित है, तो वह अपने परिवार को भी शिक्षित करने का प्रयास करेगी। जिसके कारण हमारे समाज के युवा शिक्षा के प्रति सजग होंगे।कोरोनावायरस से युद्ध लड़ती दुनिया में लॉकडाउन के दौरान घरेलू हिंसा का सामना कर रही हैं महिलाएं

घरेलू हिंसा एक अभिशाप है जो किसी भी महिला को प्रभावित कर सकती है। जरूरी नहीं कि यह सिर्फ अशिक्षित महिलाओं के साथ ऐसा हो,शिक्षित महिलाएँ भी इस तरह की हिंसा का शिकार होती हैं। फर्क सिर्फ इतना है कि शिक्षित महिलाएँ इसके खिलाफ बोलने की हिम्मत रखती हैं, लेकिन अशिक्षित महिलाएँ ऐसा नहीं करती हैं। अगर महिलाओं को सशक्त या जागरूक बनाया जाता है, तो उनके खिलाफ उत्पीड़न और अन्याय न केवल कम हो जाएगा, बल्कि वे घरेलू हिंसा के खिलाफ भी सामने आ सकेंगी।

नारीत्व का लक्ष्य महिलाओं को पुरुषों के साथ समान अधिकार देना है। उन्हें अब भी पुरुषों के समान अधिकार नहीं हैं। वे अभी भी गुलामी की जंजीरों में जकड़े हुए हैं। उन्हें बोलने और निर्णय लेने की स्वतन्त्रता नहीं है। आज भी, कई देशों में, यह नारीवादी आन्दोलन विभिन्न रूपों में जारी है। महिलाएँ आज समाज में अपने लिए एक उचित स्थान की मांग करती दिखती हैं। पुरुष-प्रधान जीवन जीने वाली महिलाओं ने स्वतन्त्रता के लिए निरन्तर प्रयास करने की आवश्यकता महसूस की।

उपन्यास विधा में ईमानदारी से महिलाओं के जीवन से सम्बन्धित सभी मुद्दों को रेखांकित किया गया है। महिलाओं के जीवन से जुड़े विभिन्न मुद्दों को हमारे लेखकों, विशेष रूप से महिला लेखकों का विषय बनाया गया है। उनके लेखन से पता चलता है कि महिलाओं की समस्याओं की जड़ में पुरुष वर्चस्व का विचार है। नारीवाद ने आधुनिक समय में एक विचार और आन्दोलन का रूप ले लिया है। आज, जो महिलाएँ सदियों पुराने रिवाजों और परम्पराओं के बोझ तले दबी हुई हैं, वे अपने अधिकारों के लिए लड़ती हुई दिखाई देती हैं।125 Woman Will Elect In Next Municipality Election In Sikar - शहरी सरकार में अब 125 सीटों पर होगा महिलाओं का कब्जा, 10 निकायों में लड़ेगी चुनाव | Patrika News

महिलाओं की स्वायत्तता का मतलब है कि उन्हें अपने जीवन में स्वतन्त्र निर्णय लेने और सामाजिक-आर्थिक, राजनीतिक और कानूनी संस्थानों में समान अधिकार देने का अधिकार। कोई भी राष्ट्र विकसित और सशक्त तभी होगा जब उस राष्ट्र की महिलाएँ सशक्त होंगी। लेकिन भारत में आजादी के 70 साल बाद भी महिलाएँ अपने हक व अधिकार के लिए संघर्ष कर रहीं हैं। सामाजिक रूप से आज भी पाबंदियाँ देखने को मिल जाती हैं जो महिलाओं के संपूर्ण विकास में बाधक हैं। ऐसी पाबंदियों से राष्ट्र निर्माण के विकास और उसकी सशक्तिकरण में भी बाधा पैदा करती हैं। इसलिए महिलाओं को भी सामाजिक, राजनैतिक, शैक्षिक रूप से समान अवसर देकर समाज और राष्ट्र को विकसित एवं सुदृढ़ करना होगा।

 महिला सशक्तिकरण एक बहुत ही महत्वपूर्ण और संवेदनशील मुद्दा है, पुरुष प्रधान समाज, पुरुषों द्वारा बनाया गया कानून, उनका वर्चस्व, महिला की बेबसी कि वह इन प्रतिबंधों और पुरानी परम्परा से खुद की मुक्ति के लिए  निरन्तर प्रयासरत हैं। नारीत्व महिलाओं की प्रकृति को समझने का एक महत्वपूर्ण पहलू है। आज के बदलते समय में हमें इन्हें प्रतिबिंबित करने की आवश्यकता है। इक्कीसवीं सदी महिलाओं के लिए रूढ़िवादी परम्पराओं को दरकिनार करने, आगे बढ़ने और सम्पूर्ण विकास करने की सदी है। नारीवाद की बहस महिलाओं में जागरूकता पैदा करती है। समाज में पुरुषों का आधिपत्य है, इसलिए बराबरी और समानता के लिए सामाजिक, सांस्कृतिक एवं साहित्यिक आन्दोलन की आवश्यकता है।

.

कमेंट बॉक्स में इस लेख पर आप राय अवश्य दें। आप हमारे महत्वपूर्ण पाठक हैं। आप की राय हमारे लिए मायने रखती है। आप शेयर करेंगे तो हमें अच्छा लगेगा।

लेखक जवाहरलाल नेहरु विश्वविद्यालय, नयी दिल्ली में शोध छात्र हैं। सम्पर्क +918130928081, bhartiprem07@gmail.com

4.2 6 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
3 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
3
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x