स्मृति शेष

पण्डित राजन मिश्र का जाना…

काशी विश्व की प्राचीनतम नगरी है, इसलिए इसकी संस्कृति भी बहुत पुरानी है। बनारस की सांगीतिक परम्परा पर देश और दुनिया के लोग गर्व करते हैं। बनारस के संगीत की परम्परा में पण्डित राजन और साजन मिश्र महत्वपूर्ण नाम थे। 400 साल की पारिवारिक परम्परा को आगे बढ़ाते हुए इन दोनों भाइयों ने शास्त्रीय संगीत को लोकप्रिय बनाया। बनारस घराने में जन्मे पंडित राजन और पंडित साजन मिश्रा को संगीत की शिक्षा उनके दादा जी पंडित बड़े राम जी मिश्रा और पिता पंडित हनुमान मिश्रा ने ही दी।

साजन जी का विवाह पंडित बिरजू महाराज की पुत्री- ‘कविता’ से हुआ था और राजन जी का विवाह पंडित दामोदर मिश्र की पुत्री- ‘बीना’ से हुआ था ! आज राजन जी के सुपुत्र – रितेश और रजनीश भी सफल गायक के रूप में अपनी पहचान बना चुके हैं ! साजन जी का पुत्र – ‘स्वरांश’ भी निरंतर संगीत साधना में रत है !

पंडित राजन मिश्रा का कोरोना के कारण रविवार 25 अप्रैल 2021 को निधन हो गया। उन्होंने 70 वर्ष की उम्र में दिल्ली के एक अस्पताल में अंतिम सांस ली।

प्रसिद्ध रंगकर्मी और फिल्मकार श्री गौतम चटर्जी ने पण्डित राजन मिश्र पर 15 मिनट की एक फिल्म बनायी है। इसे देखा जाना चाहिए।

सबलोग की तरफ से महान कलाकार को श्रद्धांजलि।

.

कमेंट बॉक्स में इस लेख पर आप राय अवश्य दें। आप हमारे महत्वपूर्ण पाठक हैं। आप की राय हमारे लिए मायने रखती है। आप शेयर करेंगे तो हमें अच्छा लगेगा।

लेखक प्रतिष्ठित साहित्यिक पत्रिका 'संवेद' और लोक चेतना का राष्ट्रीय मासिक 'सबलोग' के सम्पादक हैं। सम्पर्क +918340436365, kishankaljayee@gmail.com

5 2 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

1 Comment
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments


डोनेट करें

जब समाज चौतरफा संकट से घिरा है, अखबारों, पत्र-पत्रिकाओं, मीडिया चैनलों की या तो बोलती बन्द है या वे सत्ता के स्वर से अपना सुर मिला रहे हैं। केन्द्रीय परिदृश्य से जनपक्षीय और ईमानदार पत्रकारिता लगभग अनुपस्थित है; ऐसे समय में ‘सबलोग’ देश के जागरूक पाठकों के लिए वैचारिक और बौद्धिक विकल्प के तौर पर मौजूद है।
sablog.in



विज्ञापन

sablog.in






1
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x