सेहत

आयुर्वेदिक औषधि से भरपूर मसालों की रानी हल्दी, सेहत के लिए बहुत फायदे

 

हल्दी को मसालों की रानी कहा जाता है क्योंकि कुछ ही गिने-चुने भारतीय व्यंजन ऐसे हैं जो बिना हल्दी के बनते नही हैं। हल्दी को अपने देश में अनेक नाम से जाना जाता है, इसे हिन्दी में हल्दी, तेलुगू में पसुपु, तमिल और मलयालम में मंजिल और कन्नड़ में अरिसिना कहा जाता है। इसका वैज्ञानिक नाम कर्कुमा लॉन्ग है। हल्दी भारत के अलावा, कई दक्षिण पूर्व एशियाई राज्यों में  पैदावार होती है।

हल्दी से कैंसर में बचाव

हल्दी में मौजूद करक्यूमिन शरीर में कैंसर टिसू के विकास को रोकता है। करक्यूमिन कैंसर से लड़ता है और कीमोथेरेपी के प्रभाव को भी बढ़ाने में मदद करता है। यदि इसे काली मिर्च के साथ मिला दिया जाए तो इसका प्रभाव और भी बढ़ जाता है। कई तरह के शोध बताते हैं कि हल्दी में मौजूद निहित सक्रिय घटक ट्यूमर के खिलाफ रक्षा प्रदान करने वाले आहारों में से एक है।

हल्दी गठिया में लाभदायक

हल्दी में मौजूद  एंटी-इंफ्लेमेट्री गुण ऑस्टियो आर्थराइटिस और रह्यूमेटॉयड आर्थराइटिस के इलाज में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इसमें निहित एंटी-ऑक्सिडेंट शरीर के उन मुक्त कणों भी नष्ट कर देता है, जो कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाते हैं। इस स्थिति से पीड़ित व्यक्ति को किसी भी तरह के हल्के दर्द और सूजन से राहत पाने के लिए इस मसाले का उपयोग रोजाना करना चाहिए। हालाँकि, यह भी समझ लेना चाहिए कि हल्दी किसी भी तरह से दवा का विकल्प नहीं हो सकता।

हल्दी का उपयोग ह्रदय के लिए बेहतरीन

हल्दी का उपयोग कोलेस्ट्रॉल का स्तर सही बनाए रखने के साथ ही हृदय संबंधी रोगों को रोका जा सकता है। हल्दी में मौजूद करक्यूमिन और विटामिन बी 6 कार्डियोवास्कुलर स्वास्थ्य को सही रखता है। विटामिन बी6 होमोसिस्टीन को पैदा होने से रोकता है। यह होमोसिस्टीन सेल कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाती हैं। यह हृदय रोग का कारण है।

हल्दी का प्रयोग लिवर के लिये लाभदायक

हल्दी में मौजूद जरूरी एंजाइम्स के निर्माण को बढ़ाती है, जो टॉक्सिन्स को कम करके हमारे लीवर में खून को डीटॉक्सिफाई करती है। ब्लड सर्कुलेशन को भी सुधार कर हल्दी लीवर को स्वस्थ रखने में मदद करती है। Is Turmeric Just Limited To Haldi Doodh?: The Benefits of Haldi Milk

हल्दी का प्रयोग अल्जाइमर में उपयोगी

हल्दी में टरमैरोन मौजूद होता है, जो यौगिक मस्तिष्क की कोशिकाओं को मरम्मत करने में मदद करता है। यह स्ट्रोक और अल्ज़ाइमर जैसे रोग को भी रोकने में मददगार है। करक्यूमिन भी अल्ज़ाइमर रोग में स्मरण की शक्ति को सुधारने में मददगार है। मसालों की रानी हल्दी मस्तिष्क में प्लाक के गठन को हटाने और ऑक्सीजन के प्रवाह को सुधारने में मदद करता है। इससे अल्ज़ाइमर रोग की गति धीमी हो जाती है।

 हल्दी का प्रयोग चोट या घाव के लिए उपयोगी

सालों पहले जब कहीं चोट लग जाती थी तो हमारी दादी- नानी हमें हल्दी का लेप लगाने की सलाह दिया करती थीं। ऐसा इसलिए क्योंकि हल्दी एक प्राकृतिक एंटीसेप्टिक और एंटी-बैक्टीरियल गुणों वाला मसाला होता है, जो इसे बेहतरीन और प्रभावी डिसइंफेक्टेंट बनाता है। पिसी हुई हल्दी को चोट वाली जगह पर छिड़क दें, तो चोट जल्दी ठीक हो जाता है।

हल्दी का प्रयोग डायबिटीज़ के लिए उपयोगी

हल्दी में मौजूद एंटी-इंफ्लेमेट्री और एंटी-ऑक्सिडेंट गुण प्री- डायबिटीज़ वाले लोगों में टाइप 2 डायबिटीज़ के आने में देरी कर सकते हैं। यह इंसुलिन स्तर को बनाए रखने में मदद करता है और डायबिटीज़ के इलाज वाली दवाओं के प्रभाव को बढ़ाता है। हालाँकि, जरूरी है कि आप दवाइयों के साथ इसे लेने से पहले किसी चिकित्सक से परामर्श कर लें।

हल्दी का प्रयोग पाचन को रखे तन्दरुस्त

कच्चे हल्दी का सेवन पाचन की समस्या होने पर जब हल्दी का किया जाता है तो इससे पाचन तन्त्र सुधरता है। हल्दी के प्रमुख घटक पित्त का उत्पादन करने के लिए पित्ताशय की थैली को उत्तेजित करते हैं, तुरंत पाचन तन्त्र को सही करते हैं। इसे सूजन और गैस के लक्षणों को भी कम करने के लिए जाना जाता है। 

हल्दी का प्रयोग इम्यूनिटी को बूस्ट करता है

हल्दी में लिपोपॉलीसैकराइड होता है, जो एंटी-बैक्टीरियल, एंटी-वायरल और एंटी-फंगल एजेंट होने की वजह से हम इंसानों के इम्यून सिस्टम को प्रोत्साहित करता है। रोजाना एक गिलास दूध में एक छोटा चम्मच हल्दी पाउडर मिला कर पिएं, आप पाएंगे कि इससे आपको फ्लू लगने का खतरा कम हो गया है।

हल्दी दूध पीने के फायदे

शरीर के बाहरी या अंदरुनी हिस्से में चोट लगने पर हल्दी वाला दूध लाभदायक रहता है। शरीर में दर्द हो तो भी हल्दी वाला दूध रात में सोने से पहले पी लें। सर्दी या जुकाम होने की स्थिति में भी एक गिलास गरम दूध में एक छोटा चम्मच हल्दी मिला कर पीने से फेफड़ों में जमा कफ निकल जाता है और व्यक्ति को राहत मिलती है। सांस की तकलीफ वाला व्यक्ति यदि रोजाना हल्दी वाला दूध पिएं तो उसके शरीर में गर्मी का संचार होगा और उसे आराम मिलेगा।

.

कमेंट बॉक्स में इस लेख पर आप राय अवश्य दें। आप हमारे महत्वपूर्ण पाठक हैं। आप की राय हमारे लिए मायने रखती है। आप शेयर करेंगे तो हमें अच्छा लगेगा।

लेखिका माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय से एमबीए हैं और स्वतन्त्र लेखन करती हैं। सम्पर्क agrahari.suchitra11@gmail.com

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

डोनेट करें

जब समाज चौतरफा संकट से घिरा है, अखबारों, पत्र-पत्रिकाओं, मीडिया चैनलों की या तो बोलती बन्द है या वे सत्ता के स्वर से अपना सुर मिला रहे हैं। केन्द्रीय परिदृश्य से जनपक्षीय और ईमानदार पत्रकारिता लगभग अनुपस्थित है; ऐसे समय में ‘सबलोग’ देश के जागरूक पाठकों के लिए वैचारिक और बौद्धिक विकल्प के तौर पर मौजूद है।
sablog.in




0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x