समाज

ग्लोबल राइटर्स फेस्टिवल ने किया बसंतोत्सव काव्य गोष्ठी का आयोजन

 

    ग्लोबल राइटर्स फेस्टिवल, दिल्ली मंच पर हुआ रंगारंग बसंतोत्सव काव्य गोष्ठी का आयोजन। मंच के संस्थापक कवि डा. सुरेश शौर्य जी के द्वारा बसंतोत्सव काव्य गोष्ठी का आयोजन ज़ूम ऐप के माध्यम से कराया गया। जिसमें देश भर के 45 कवि/कवियित्रियों ने प्रतिभाग किया।

   पूनम देवी राज द्वारा सरस्वती वंदना के उपरांत कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया।

प्रतियोगिता कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में आदरणीया डॉ. मंजू शर्मा जी, आदरणीया शिखा वर्मा जी एवम् आदरणीय सत्या ठक्कर जी का स्वागत किया गया।

    डॉ. मंजू शर्मा जी ने बसंतोत्सव की बधाई देते हुए नारी जगत के उत्थान और उनके उज्वल भविष्य के लिए मार्गदर्शन किया। इसी क्रम में आदरणीया शिखा वर्मा जी ने सभी को बसंत पंचमी की बधाई देते हुए बेटियों के लिए अपनी स्वरचित कविता प्रस्तुत करते हुए सभी का उत्साह वर्धन किया। इस मंच के संस्थापक आदरणीय कवि डा. सुरेश शौर्य ने सभी रचनाकारों को बसंत पंचमी दिवस की शुभकामनाएं देते हुए मंच का आवाह्न किया। मंच के लोकतांत्रिक व्यवस्था पर आधारित होने व इसकी पारदर्शिता पर प्रकाश डालते हुए मंच की महत्ता और विशेषता से अवगत कराया। उन्होंने नारी को मानव और साहित्य सृजन की जननी बताया। आदरणीय सत्या ठक्कर जी ने बहुत ही शानदार तरीके से सभी को कार्यक्रम की बधाई देते हुए कार्यक्रम को आगे बढ़ाया।

    मंच संचालन का कार्य बहुत ही सराहनीय रहा। प्रतियोगिता में सभी रचनाकार पीले रंग के परिधानों से सुसज्जित एक से बढ़कर एक रचनाओं का काव्य पाठ किया। जिसमें दीपिका गहलोत पुणे, डॉ. प्रिया सूफी पंजाब, डॉ. कुमुद बालाधार आंध्रप्रदेश, मानसी तिवारी कानपुर, ऋतु अग्रवाल बंगलुरू, अंजना सिहा रांची, मधु भूतड़ा जयपुर गुलाबी नगरी, अर्चना चंचल दिल्ली, निशी श्रीवास्तव लखनऊ, मधु कौशिक लखनऊ, एल एस तोमर जी, शुभा शुक्ला रायपुर, नीलम डिमरी उत्तराखंड चंद्रशेखर मार्कण्डेय, डॉ. छाया शर्मा राजस्थान, क्रांति श्रीवास्तव बोकारो, ममता जैन पंजाब, अम्बे कुमारी गया बिहार, शारदा माल पाणी अमरावती, स्वाति जैसलमेर, डॉ. गरिमा त्यागी उ. प्र. , जयश्री कांत, मंजूषा किंजवादेकर, रेखा दवे, मंजरी जी, स्मृति चौधरी सहारनपुर, प्रियंका पाटिल हैदराबाद, नीलम महाजन जी, रानी नारंग जी, अल्पना दुबे बंगलुरू, आभा चौहान अहमदाबाद, आशु राजरतन दिल्ली, अस्मिता मुर्मू एक्सओडिसा, ज्योति तिवारी मुंबई, डॉ. हेमलता गोपालगंज बिहार, ईश्वर चंद्र जायसवाल गोंडा, आशा क्षमा नयी दिल्ली, रमा बहेड हैदराबाद, रामचन्द्रजी स्वामी, अंजनी अग्रवाल ओजस्वी कानपुर, शिवशंकर दीक्षित आदि कवियों ने अपनी रचनाओं के काव्यपाठ से बसंत मास के लुभावने मौसम को संगीतमय बनाया।

   मंच के संचालन कार्य को दिशा देने का कार्य पूनम देवी राज सीतापुर, उत्तर प्रदेश से किया। साथ ही राज अजनबी कलान शाहजहांपुर से, दर्शना शर्मा कोलकाता से, मानवी सेतिया कुरुक्षेत्र ने बहुत ही शानदार तरीके से मंच का संचालन किया।

अंत में मंच द्वारा सभी की उत्कृष्ट रचनाओं का उद्बोधन किया और समस्त साहित्यकारों को शुभकामनाएं देते हुए आभार व्यक्त किया। वन्दे मातरम् गान से कार्यक्रम का समापन किया गया।

.

कमेंट बॉक्स में इस लेख पर आप राय अवश्य दें। आप हमारे महत्वपूर्ण पाठक हैं। आप की राय हमारे लिए मायने रखती है। आप शेयर करेंगे तो हमें अच्छा लगेगा।

लोक चेतना का राष्ट्रीय मासिक सम्पादक- किशन कालजयी

5 1 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

डोनेट करें

जब समाज चौतरफा संकट से घिरा है, अखबारों, पत्र-पत्रिकाओं, मीडिया चैनलों की या तो बोलती बन्द है या वे सत्ता के स्वर से अपना सुर मिला रहे हैं। केन्द्रीय परिदृश्य से जनपक्षीय और ईमानदार पत्रकारिता लगभग अनुपस्थित है; ऐसे समय में ‘सबलोग’ देश के जागरूक पाठकों के लिए वैचारिक और बौद्धिक विकल्प के तौर पर मौजूद है।
sablog.in




0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x