दलित आन्दोलन और मधुकर सिंह
शख्सियत

दलित आन्दोलन और मधुकर सिंह

 

बिहार के दलित आन्दोलन में हीरा डोम की भूमिका बेहद महत्वपूर्ण एवं सराहनीय है। वह आज भी उतनी ही मजबूती लिए हुए है। हीरा डोम ने दलितों की पीड़ा एवं संवेदना को (अपनी कविता) ‘अछूत की शिकायत’ से अभिव्यक्ति दी। भोजपुरी में लिखी यह कविता ‘सरस्वती’ पत्रिका के 1914 के अंक में प्रकाशित हुई थी। इस कविता में उस समय जो दलितों की पीड़ा थी, समाज में भेदभाव था, दलितों को लेकर जो अमानवीय व्यवहार था उसे सशक्त अभिव्यक्ति दी है।

इस कविता से हीरा डोम ने सरकार और भगवान को घेरने की बहुत सार्थक कोशिश की थी। साथ ही, समाज को भी कठघरे में लाकर खड़ा किया था। वह अकल्पनीय था। हीरा डोम ने दलितों के साथ गैरबराबरी के व्यवहार को इतनी मजबूती से उठाया था कि उसके लिखे शब्द आज भी नितांत प्रसांगिक हैं। वे दलित आन्दोलन से जुड़े लोगों के समक्ष सवाल भी खड़े करते हैं। सरकार बदली, व्यवस्थाएं बदली, लोग बदले, समाज और देश बदला लेकिन समाज के अंदर गैरबराबरी का दंश नहीं मिटा। दलितों की पीड़ा आज भी चौतरफा घट रही घटनाओं में साफ झलकती है।

दलितों के साथ बलात्कार, उत्पीडऩ आदि जुल्म जारी हैं। कहने को तो सरकार/व्यवस्था और समाज की मुख्यधारा से दलितों को जोडऩे के लिए महादलित आयोग बना दिया गया है लेकिन, दलित की पीड़ा जस की तस बनी हुई है। इतिहास में दर्ज है कि विगत में बाबा साहेब अम्बेडकर के आन्दोलन को रोकने का प्रयास हुआ। 1952 में पटना के गाँधी मैदान में डॉक्टर भीम राव अम्बेडकर सभा को संबोधित करने आये थे, तब इस सभा में कुछ तथाकथित राजनीतिक दलों से जुड़े दलित नेताओं ने बखेड़ा खड़ा कर दिया था। सभा के दौरान बाबा साहेब पर पत्थर तक फेंके गए थे। बिहार में दलित अंदोलन को पीछे धकेलने की यह महत्वपूर्ण घटना थी।

यह राजनीति यहीं नहीं रुकी, बल्कि जारी रही। राजनीतिक पार्टियों पर आरोप लगता रहा कि दलितों का इस्तेमाल हर दल ने वोट बैंक के तौर पर किया। हालांकि बिहार की सत्ता पर दलित मुख्यमंत्री भी आसीन हुए, देश-राज्य की सत्ता में बिहार से कई दलित राजनेता शिखर पर पहुंचे, लेकिन दलित भागीदारी से कोई कारगर प्रयास नहीं हुआ। एक दौर था जब बिहार के गैर दलित साहित्यकारों ने दलित संवेदना को उठाते हुए कई रचनात्मक कार्य किए थे और समाज को सोचने के लिए विवश किया था। इस सन्दर्भ में चर्चित कथाकार मधुकर सिंह की कहानी ‘दुश्मन’ का विशेष स्थान है। यह आज भी उतनी ही प्रसांगिक है जितनी उस दौर में थी।

मधुकर सिंह लगातार दलितों-पिछड़ों को केंद्र बनाकर रचनाकर्म करते रहे। मधुकर सिंह के बाद मिथलेश्वर, राजेन्द्र प्रसाद, प्रेम कुमार मणि, रामधारी सिंह दिवाकर, कर्मेंदु शिशिर, रामजतन यादव सहित कई लेखकों ने अपनी रचना से दलित आन्दोलन को एक आयाम देने की कोशिश की। इस दिशा में अभी भी कुछ लोग काम कर रहे हैं, कुछ राजनीति की वैसाखी पकड़ चुके हैं तो उनका लेखन कुंद हो चुका है। वे लिख तो रहे हैं लेकिन जो तेवर वर्षों पहले उनके लेखन में दलित संवेदना को लेकर था, वह अब नहीं है। अब मधुकर सिंह जैसे लेखकों का अभाव है।

2 जनवरी 1934 को बंगाल प्रांत के मिदनापुर में जन्मे मधुकर सिंह ने जीवन के आठ दशक का ज्यादातर समय बिहार के भोजपुर जिला मुख्यालय आरा से सटे अपने गाँव धरहरा में गुजारा। मधुकर सिंह के साहित्य का बहुलांश भोजपुर के मेहनतकश किसानों, खेत मजदूरों, भूमिहीनों, मेहनतकश औरतों और गरीब, दलित-वंचितों के क्रांतिकारी आन्दोलन की आंच से रचा गया। सामंती-वर्णवादी-पितृसत्तात्मक व्यवस्था से मुक्ति के लिहाज से मधुकर सिंह की रचनाएं बेहद महत्व रखती हैं।

अपनी लंबी बीमारी के बाद मधुकर सिंह विगत 15 जुलाई 2014 को हमसे बिछड़ गए। और उनके साथ ही वर्गीय चेतना से लैस सक्रिय आन्दोलन शिथिल होने लगा। जहां तक दलित लेखकों का सवाल है तो बिहार में दलित लेखकों का आन्दोलन से भी अब उतना जुड़ाव नहीं रहा। ऐसा कोई लेखन अब नहीं के बराबर है। बस छिटपुट तौर पर दलित संवेदना को उठाते हुए आन्दोलन खड़ा करने का प्रयास किया जा रहा है। लेखक आज जरूरी मुद्दों को छोडक़र लिख रहे हैं।

ऐसा नहीं है कि अब दलित आन्दोलन की जरूरत नहीं है, बिहार में दलितों के साथ वही सब कुछ हो रहा है जो अन्य जगहों पर हो रहा है। ऐसा लगता है कि सब कुछ बाजारवाद की चपेट में है और अब न तो दलित आन्दोलन दिखता है और न ही आन्दोलन से जुड़ा साहित्य। सवाल उठता है कि कथा साहित्य में बिहार इतना समृद्ध होते हुए भी दलित चेतना, संवेदना और आन्दोलन से क्यों नहीं जुड़ पाया। यह स्थिति दुर्भाग्यपूर्ण है। इससे निपटने की कोई बड़ी और प्रभावी पहल नहीं हुई। न ही दलित वर्ग की ओर से, और न गैर दलित वर्ग से। बिहार की जमीन बहुत उर्वर है। एक परिपक्व दलित सांस्कृतिक आन्दोलन की जरूरत यहां शिद्दत से महसूस की जा रही है।

दलित आन्दोलन के लिए विचारधारा व जन-जागृति से जुड़े मुद्दे चाहिए। आज इन बातों की कमी साफ दिखती है। दलित नेताओं पर आरोप है कि उनकी वजह से बिहार में दलित आन्दोलन की गति अवरुद्ध हुई है। राजनीतिक उदासनीता की वजह से ही आज दलित आन्दोलन हाशिए पर है। अगड़ा-पिछड़ा की राजनीति तो खूब हुई लेकिन दलित उपेक्षित रहे। मधुकर सिंह जैसे जुझारू रचनाकार भी अब नहीं रहे जिनकी सम्वेदना लोगों को उद्वेलित करती थी

.

कमेंट बॉक्स में इस लेख पर आप राय अवश्य दें। आप हमारे महत्वपूर्ण पाठक हैं। आप की राय हमारे लिए मायने रखती है। आप शेयर करेंगे तो हमें अच्छा लगेगा।

लेखक स्वतन्त्र पत्रकार हैं। सम्पर्क +917838897877, shailendrachauhan@hotmail.com

5 1 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x