Tag: राधे फिल्म समीक्षा

सिनेमा

बेमतलब, बेमक़सद ‘राधे’

 

{Featured in IMDb Critics Reviews}

 

निर्देशक – प्रभु देवा
स्टार – सलमान ख़ान, दिशा पटानी, रणदीप हुड्डा, जैकी श्रॉफ, जैकलीन फर्नांडिस, प्रवेश राणा, सिद्धार्थ जाधव आदि

इसका थोबड़ा पसन्द नहीं।
शेयर मत करो।
बचा लो भाई प्लीज़।
हमारा आना जाना मुश्किल हो गया है।
कुछ तो करूंगी तुम्हारे लिए।
मैं ये नौकरी छोड़ना चाहता हूं।
अपनी जिन्दगी जियो।
अभी कुछ मत बुक करना।

ये सब डायलॉग है आज ज़ी के नेटवर्क पर पे पर व्यू के आधार पर रिलीज हुई फ़िल्म ‘राधे योर मोस्ट वांटेड भाई’ के। क्या आपको कुछ समझ आ रहा है इन डायलॉग से? अगर हाँ तब आप समझदार हैं और अगर नहीं तो आप बुद्धिजीवी हैं। दरअसल ये सब डायलॉग को आप फ़िल्म देखते हुए अपने ऊपर लागू करके देखना। कसम से आप भी कह उठोगे यही सब कि –

कहोगे कि – हमें इसका थोबड़ा पसन्द नहीं।
फ़िल्म के बारे में शेयर मत करो।
बचा लो भाई प्लीज़ अपना रुपया।
हमारा आना जाना मुश्किल हो गया है नहीं भाई हमारा देखना मुश्किल हो गया है।
कुछ तो करूंगी तुम्हारे लिए, एक काम कर बहन एक्टिंग छोड़ दे।
मैं ये नौकरी छोड़ना चाहता हूं और हम तुम्हारी फ़िल्म देखना छोड़ने वाले हैं। 
अपनी जिन्दगी जियो – सही है हमें भी जीने दो।
अभी कुछ मत बुक करना – ‘नहीं-नहीं टिकट भी बुक मत करना।’
राणा हैलीकॉप्टर तैयार रख। मैं कहता हूं भाई इस फ़िल्म को देखते वक्त एक डिस्प्रिन की गोली तैयार रख।

वैसे एक गोली से भी कुछ नहीं होगा। एक काम करना इस फ़िल्म को देखते-देखते हर थोड़ी देर बार एक गोली पानी से लेते रहना तब जाकर यह शायद आपके दिमाग के सहारे दिल में उतर सके। लेकिन हमारा क्या? हम क्या करें? हम तो समीक्षक हैं। देखना तो पड़ेगा और लिखना भी पड़ेगा फिर आप ही बोलोगे कि हमें पहले बताया नहीं।

इस फ़िल्म के साथ भी ऐसा कुछ ऐसा ही है कि सबसे बेकार होने का टैग लगाने के बाद भी यही सबसे ज्यादा देखी भी जाएगी। हालांकि शुरुआत के पांच मिनट इसे देखते हुए अच्छा लगता है  उसके अलावा रणदीप हुड्डा और सलमान खान के कुछ फाइट सीन ठीक लग सकते हैं। लेकिन 135 मिनट की फ़िल्म में सिर्फ़ 5-7 मिनट ही आपको ठीक लगे बाकी समय सिरदर्द तो फिर आप भी लड़ने मत लग जाना भाई ईद के इस बढ़िया अवसर पर।

अब फ़िल्म की बात तो वह ये कि – फ़िल्म में एक हीरोइन है जो एक्टिंग छोड़कर सब कुछ करती है। बेवजह मदद करती है, बेवजह प्यार करती है, बेवजह गंदा नाच करती है। एक हीरो है वो भी उसी राह पर चलता नज़र आता है। तीसरा थोड़ा ठीक लगता है कारण क्योंकि वो विलेन है। और एक वही है जिसके लिए 1 स्टार दे दिया हमने। बाकी चौथा हीरोइन का भाई जिसका दिमाग सेट नहीं लगता, वह अपने आचरण, व्यवहार से झूठा भी लगता है। और एक बात बताओ यार ये लेटकर जूता पहनने की क्या जरूरत थी भाई?

गाने बकवास, कहानी है नहीं कोई सिरे की, बैकग्राउंड स्कोर ऐसा की दिमाग खराब, बवाल। सीटी मार नहीं चार जूते मार। स्टूडेंट से मदद लेना रिस्क नहीं है- कोई रिस्क नहीं है सर। लेकिन इस फ़िल्म को देखने में रिस्क जरूर है। और ये दुबई वाले इतना क्यों चिल्ला रहे थे दुबई में कौन फ़िल्म समीक्षक है पता करो भाई जल्दी से। जाते-जाते एक बात वह ये कि ईद के दिन ये मार-पीट रुचती नही बल्कि आपकी ईद का मजा जरूर किरकिरा करती है।

अपनी रेटिंग – 1 स्टार

.