पूँजी के भंवर में मनुष्यता की संभावनाओं का अन्त