पितृसत्‍तामक समाज का वर्तमान पुरूष