अवमूल्यन के दौर में रामकाव्य