पारुल खक्कर की 14 पंक्तियों की कविता ‘तारे बोलवानुं नहि’