‘पिशाच’
पुस्तक-समीक्षा

हिन्दी के बेडौल अपराध साहित्य की एक नजीर ‘पिशाच’

 

पिछली 29 अगस्त को वीडियो पत्रकार अजित अंजुम ने अपने यूपी चुनाव और किसान आन्दोलन सम्बन्धी कवरेज के बीच अचानक ही हिन्दी के हाल में प्रकाशित एक ‘क्राइम थ्रिलर’ ‘पिशाच’ पर चर्चा की। इसके लेखक संदीप पालीवाल के साथ ही उनके एक मित्र विनोद कापड़ी भी चर्चा में शामिल थे। ये तीनों टेलिविजन के न्यूज रूम के मित्र हैं और नॉवेल भी टेलिविजन के न्यूज रूम में पसरे हुए हाई सोसाइटी के लोगों के उच्च स्तरीय अपराधी कृत्यों (सोच) की ही एक कहानी कहता है। विनोद कापड़ी ने उपन्यास पढ़ा था और उनका कहना था कि इसका गठन कुछ ऐसा है कि कोई भी इसे एक सांस में पढ़ जायेगा। मतलब कथा की रोचकता वाला पहलू इसमें भरपूर है।

बहरहाल, उनकी चर्चा सुन कर ही मन में पहली बार हिन्दी के किसी क्राइम थ्रिलर को पढ़ने की इच्छा जगी। हिन्दी में आम भाषा में इन्हें जासूसी उपन्यास कहते हैं और हमारा दुर्भाग्य-सौभाग्य कुछ भी कहे, हममें इनको पढ़ने की कभी कोई रुचि नहीं जगी थी। यहां तक कि इस क्षेत्र के सबसे लोकप्रिय कहे जाने वाले लेखक सुरेन्द्रमोहन पाठक के भी किसी उपन्यास को हमने उलट-पुलट कर भी नहीं देखा है। बांग्ला में सत्यजीत राय ने इस क्षेत्र में कुछ अपने प्रकार का काम किया था। उनका फेलुदा बांग्ला साहित्य का भी एक लोकप्रिय चरित्र है। वहां ऐसा ही दूसरा चरित्र है व्योमकेश बक्शी। पर हिन्दी में ऐसे किसी जासूसी चरित्र की चर्चा नहीं सुनी। अंग्रेजी में आर्थर कोनन डोयल के शार्लोक होम्स को सारी दुनिया जानती है। उतनी ही लोकप्रिय है अगाथा क्रिस्टी की हत्या-रहस्य की कथाएँ।

बहरहाल, हिन्दी के साहित्य के पाठक की जासूसी उपन्यासों में कोई रुचि पैदा न होना अपने आप में एक गहरी खोज का विषय हो सकता है। प्रेमचंद के पहले की अय्यारी और तिलिस्म की रोमांचक कथाओं का जिक्र इसीलिये आता है कि उसने हिन्दी-उर्दू का जो एक पाठक वर्ग तैयार किया था, उसे प्रेमचंद ने अपने सामाजिक, यथार्थवादी आदर्श के उपन्यासों से विस्थापित करके साहित्य के पाठक में तब्दील कर दिया। और कहना न होगा, इसके साथ ही अय्यारी का लेखन साहित्य चर्चा से बाहर हो गया।

मानो साहित्य ने उसके पाठकों को खींच कर उस लेखन के प्राणों को ही सोख लिया। साहित्य के पाठक के लिए जैसे उसका अस्तित्व ही खत्म हो गया। प्रेमचंद के साथ ही हिन्दी में जैनेन्द्र, यशपाल, अज्ञेय आदि आदि बड़े-बड़े उपन्यासकारों की एक बाढ़ आई और हिन्दी समाज उनके मोटे-मोटे उपन्यासों में उसी प्रकार डूब गया जैसा कि आज भी जासूसी उपन्यासों के पाठक उनमें डूबे हुए पाए जाते हैं। उस काल में साहित्य की दुनिया में सेक्स और सुरसुराहट पैदा करने वाले प्रेम को लेकर जो प्रयोग किए गए उन्हें साहित्यालोचना में चाकलेटी साहित्य से लेकर साड़ी-जम्परवादी साहित्य आदि कई नामों से तिरस्कृत समाज के दायरे में धकेल कर उन प्रवृत्तियों के गंभीर आकलन की जरूरत को ही जैसे रोक दिया गया।

इसीलिए एक ऐसे साहित्यिक परिवेश से संस्कारित हम जैसे हिन्दी के पाठक-लेखक के लिए जासूसी उपन्यास का जगत पूरी तरह से अनजान ही रहा। हमें लगता है कि आज तक भी हिन्दी साहित्य जगत की इस स्थिति में कोई फर्क नहीं आया है। इसीलिए जासूसी कहे जाने वाले उपन्यासों के रहस्य-रोमांच के संधान की, उनकी समीक्षा का कोई सठीक ढांचा भी विकसित नहीं हुआ है। इनके रहस्य-रोमांच को सायास और यांत्रिक रूप में गढ़ी हुई ऐसी किस्सागोई के खाते में खतिया दिया जाता है जिनका उद्देश्य पाठक को नितांत सामयिक उत्तेजना देने के अलावा कुछ नहीं है। साहित्य में रहस्य-रोमांच के जिस बिंदु से आम तौर पर समय की करवट के सूक्ष्म संकेत मिला करते हैं, व्यक्ति के आत्मिक जगत में उसके आलोड़न की ध्वनि पैदा होती है, रोमांच का ऐसा अर्थपूर्ण संक्रमण के संकेतों से भरा बिंदु कथित जासूसी उपन्यासों से गायब होता है। कुल मिला कर हिन्दी के जासूसी उपन्यासों का एक प्रकार का उथलापन और कृत्रिमता ही शायद इसे गंभीर साहित्यिक अन्वीक्षा की नजर से बाहर की चीज बना देता है।

बहरहाल, मनुष्य की किसी भी क्रिया को लेकर यदि हमें कोई खास सैद्धांतिक कसौटी तैयार करनी हो, वह भले जासूसी उपन्यास के रूप में हो क्यों न दिखाई दे, तो यह जरूरी होता है कि उस कसौटी की भी अपनी एक आंतरिक संहति हो। महज अपने उद्देश्यों की घोषणा करके कोई भी मानव विज्ञान मनुष्य के व्यवहार के अर्थ से जुड़े सवालों से बच नहीं सकता है। अन्यथा उसे उसके अस्तित्व मात्र से ही इंकार करना होगा, अर्थात् कहना होगा कि हिन्दी में जासूसी उपन्यास जैसी कोई चीज ही नहीं है।

जीवन के सत्य के उद्घाटन की तरह ही लेखन के सत्य के उद्घाटन की एक सतत प्रक्रिया होती है। इसी के चलते हमें यह लगने लगता है कि जैसे पदार्थ का सत्य उसमें ही द्वंद्वात्मक रूप में कैद रहता है। किसी भी लेखन को जो उद्देश्य होता है, उसकी प्राप्ति के लिए  वह कभी भी अपने उद्देश्य की सीमाओं का अतिक्रमण नहीं कर सकता है। और यही वह बिंदु होता है जहां साहित्य के आलोचक की भूमिका का सवाल पैदा होता है। यह उसका दायित्व होता है कि वह जो लिखा जा रहा है, उसके घोषित उद्देश्यों से परे जाकर उसमें सत्य की खोज करे। उसके पेशे की जरूरत के नाते ही उसके पास चीजों को परखने वे औजार होते हैं जिनसे वह लेखन के प्रकट रूप से यह तय कर पाता है कि जीवन के रहस्य का उद्घाटन उसे कहां और कितना प्रभावित कर रहा है।

अपराधशास्त्र का उद्देश्य ही तो सत्य की तलाश होता है। अपराध के सत्य को स्थापित करना अगर न्याय तंत्र की जरूरत होता है, तो अपराधी के सत्य को पाना साहित्य और मानवशास्त्र का विषय है और इस आधार पर भी जासूसी उपन्यास और साहित्य लेखन के बीच एक अभिन्न सम्बन्ध बन जाता है। जीवन के महाकाव्य के रूप में उपन्यास की संरचना की मांग है कि वह अपराध और अपराधी के सत्य की एक समग्र, संशलिष्ट तस्वीर पेश करे। जासूसी उपन्यास जब महज किसी पुलिस इंस्पेक्टर की तरह अपराध के सत्य पर ही सिर गड़ाये रहता है, अपराधी का सत्य उसके दायरे से एक सिरे से गायब हो जाता है, तब उस लेखन की अहमियत पुलिस की जांच रिपोर्ट से अधिक नहीं रहती है।

जीवन तमाम विस्मयों से भरपूर होता है। लेखक चरित्र पर उन विस्मयों के प्रभाव को देखता है। लेखन में जो आता है, वह हमेशा चरित्रों पर निर्भर नहीं करता। कोई भी चरित्र मनमाने ढंग से जीवन के सामान्य ढांचे की सीमा का उल्लंघन नहीं करता। लेखक ही उसे किसी खास रंग में रंग कर उससे सीमाओं का उल्लंघन करवाता है। यही बात साहित्य और आलोचक के सम्बन्ध पर भी लागू होती है। आलोचक को साहित्य के सत्य की तलाश में लेखक सेअपने स्तर पर एक संवाद करना होता है।जब हम देखते हैं कि जासूसी उपन्यासों पर विचार का कोई स्वयं में विकसित ढांचा उपलब्ध नहीं है तोयह जरूरी है कि हमउपन्यास साहित्य में उसके स्थान औरयोगदान के साथ ही अपनी कसौटियों की सीमाओं की भी चर्चा करे। साहित्य आलोचना का काम किन्हीं स्थापित मानदंडों का प्रचार करना नहीं है, बल्कि हमेशा उनके पुनर्विचार की दिशा में बढ़ना होता है। किसी भी नए विषय को छूने का तात्पर्य भी यही है, अपने पूर्व के मानदंडों पर पुनर्विचार। बिना उसके उपेक्षित-तिरस्कृत क्षेत्रों को अपने विचार के दायरे में लाना मुश्किल है।

अपराध हो या अपराधी, उनकों अपनेसामाजिक संदर्भों से काट कर विचार संभव नहीं है। दुनिया में ऐसे समाज की कल्पना संभव नहीं है जिसके अपने लिखित अथवा अलिखित विधायी कानून नहीं होते हैं। और कोई भी समाज ऐसा नहीं होता जिसमें किसी न किसी रूप में इन कानूनों का अतिक्रमण न होता हो। इन अतिक्रमणों से ही अपराध परिभाषित होते हैं। शत-प्रतिशत आज्ञाकारी,समूह के नियमों का पूरी तरह से पालन करने वाला मनुष्यएक शुद्ध मानवशास्त्रीय, ‘वैदिक’,कल्पनाप्रसूत,मूलतः मिथकीयअवधारणा है, जिसके दबाव में बाकी सारी सामाजिक अवधारणाएं तैयार हुआ करती है, पर स्वयं में कोई इंगित वहन नहीं करता है।

मनुष्य के यथार्थ औऍर प्रतीकात्मक जगत को जानना है तो उसकी सामाजिकता को जानना होता है और समाज स्वयं में अपराध और दण्ड के बीच के संबंधों के अलावा क्या है? दण्ड विधान ही अपराध और अपराधी को सामाजिक विषय बनाता है। अपराध-कथा समाज के सच की कथा ही होती है। और इसीलिये वह हमेशा गंभीर लेखकीय विश्लेषण का का विषय भी होती है। कोई भी लेखक अपने सीमित अनुभव से यह दावा नहीं कर सकता है कि उसने चरित्र को उसकी सामाजिक समग्रता में व्यक्त कर दिया है, अर्थात् समाज में सक्रिय तमाम ताकतों, प्रवृत्तियों के समुच्चयों को उसने जान लिया है। लेखक चरित्र के संबंधों के तनावों को भांप कर उनका सभ्यता के स्तर पर एक सामान्यीकरण करता है जिसमें चरित्र की नैसर्गिकता और उसके प्रतीकात्मक जगत का मिलन बिंदु साफ नजर आने लगता है। यही साहित्य का साध्यहै।विश्लेषणमूलक लेखनमानवशास्त्र का ही एक रूप है जिसकी कथा में उन द्वंद्व के संकेत मिलते हैं किसी भी समाज के सामने बड़े सवाल उत्पन्न करते हैं।

अपराध और साहित्य और अपराध साहित्य और हिन्दी आलोचना, अपराध और अपराधी, अपराधी और दण्ड, दण्ड और समाज के इस पूरे संदर्भ में जब हम संजीव पालीवाल के उपन्यास ‘पिशाच’ को देखते हैं तो सबसे पहली बात जो जेहन में आती है, वह यह कि किसी भी अपराध की जांच का और लेखन का भी लक्ष्य होता है — अपराधी की आत्म-स्वीकृति। इसे अपराध शास्त्र की वह प्रमुख कुंजी माना जाता है जिससे अपराधी दण्ड का भागीदार बन कर समाज में लौटता है। लेकिन ‘पिशाच’ का पूरा ढांचाही इसके अपराधी रैना दुबे उर्फ काली के ऐलानिया कबूलनामे पर टिका हुआ है। अपराध-स्वीकृति इसमें जांच या लेखन का लक्ष्य नहीं, बल्कि एक प्रस्थान बिंदु है। लक्ष्य है समाज के एक हिस्से के सच को उजागर करना।

सरे आम, टेलिविजन चैनल पर हत्यारा खुद ही अपने सारे अपराधों की कहानी पेश करता है। अपराधों की जांच के लिए जिम्मेदार सरकारी जांच ऐजेंसी (इंस्पेक्टर समर) तो उस चैनल के पीछे-पीछे सिर्फ घिसटती हुई दिखाई देती है। उपन्यास के अंत में रैना दुबे के पिता रवि दुबे का यह कथन है कि ये सारे खून उसने किये हैं, एक अवांतर क्षेपक और अपराध-कथा में रहस्योद्घाटन के विस्मय का लाभ पाने की हास्यास्पद कोशिश सीलगती है। उसका अपराध की जांच-रिपोर्ट और उपन्यास की कथा, दोनों लिए ही कोई महत्व नहीं है।

कहना न होगा, ‘पिशाच’ का यह आत्म-स्वीकृतिमूलक ढांचा ही इसे रहस्य-रोमांच पर टिके अपराध साहित्य के दायरे से बाहर कर देता है। अब इस पर यदि विचार हो सकता है तो सिर्फ एक ऐसे चरित्र की कहानी के आधार पर जो 28 साल पहले, बचपन में एक कवि के द्वारा बलात्कृत होने के भाव को अपने अंदर पाले हुए थी और इतने सालों की लंबी तैयारी करके वह न सिर्फ उस कवि की बल्कि और भी कई बलात्कारियों की नृशंस हत्या करती है।

फ्रायडियन नजरिये से विचार करे तो पहली नजर में ही कोई भी इसे एक हिस्टेरिक चरित्र की कहानी कह देगा। उस पर बलात्कार हुआ या नहीं या उसने किसी की हत्या भी की या नहीं, पर वह अपनी कल्पना में वह पूरी कहानी गढ़ लेती है जिसमें उसका परिवेश, उसके सम्बन्ध में आने वाले व्यक्ति अजीब प्रकार से बिल्कुल नंगे दिखाई देने लगते हैं। सामाजिक यथार्थ का सबसे नग्न रूप पागल के व्यवहार में ही प्रकट होता है जो सत्य और अनुभूति की मध्यस्थता करने वाले प्रतीकात्मक संजाल को तोड़ कर अलग हो चुका होता है। हिस्टेरिक दौरों में वह उन तमाम चीजों को बिल्कुल साक्षात देखने लगता है जो कभी घटित ही नहीं हुआ और उनके बल पर एक पूरी कहानी बुन लेता है। फ्रायड की यह मान्यता थी कि किसी भी मनोविश्लेषक के लिए विश्लेषण की सही दिशा पकड़ने के लिए सबसे पहली शर्त होती है कि वह मनोरोगी की अपने अहम् से निकली हुई, अर्थात् अपने पक्ष में कही गई बातों को एक सिरे से खारिज करता हुआ आगे बढ़े। उसे कोई भी मूल्य देने का अर्थ होता है शुरू में ही विश्लेषण को गलत दिशा में मोड़ देना।

‘पिशाच’ में यथार्थ के जिस विश्लेषण को कथा का विषय बनाया गया है वह विश्लेषण ऐसे ही मूलभूत दोष से दूषित है। इसीलिये इसमें शुरू से ही किसी नए अवबोध के रोमांच की कोई संभावना नहीं रहती है। लेखन का उद्देश्य महज तात्कालिक उत्तेजना देने की किस्सागोई तक सीमित रह जाता है। शर्लोक होम्स की तरह छोटी-छोटी चीजों सेविषय के रहस्य के अनपेक्षित पक्षों को उजागर करने की प्रखर अन्तर्दृष्टि का परिचय पाने की भी कोई संभावना नहीं बचती, क्योंकि लेखक तो अपराधी के आत्म-कथन को ही ध्रुव सत्य मान कर दोहरा भर रहा होता है। काली अचानक 28 साल बाद ही क्यों बलात्कारियों के प्रति नफरत से भर कर इतनी संवेदनशील हो जाती है कि अपनी पहचान के सभी बलात्कारियों का सिर कलम कर देने के अभियान में उतर पड़ती है, ऐसी अवास्तविक कहानी की सच्चाई को काली में नहीं उसके बाहर से देखने की जरूरत थी। तब जाहिर होता कि कैसे जीवन की घटनाएँ और परिवेश में होने वाली उथल-पुथल से आदमी इस कदर पागल हो जाता है कि वह अपने वर्तमान जीवन की सारी बलाओं के लिए पंडित नेहरू को जिम्मेदार मानने लगता है !

‘पिशाच’ की कहानी ऐसे भक्तों की कहानी से जरा भी भिन्न नहीं है। पर लेखक उसे सच मान कर पेश करता है और इसके चलते इस कथा में  आने वाले तमाम जाने-पहचाने चरित्र भी कहानी के ताने-बाने से खुल कर सामने आने के बजाय और ज्यादा रहस्यमय हो कर रह जाते हैं। पूरा उपक्रम रहस्योद्घाटन का नहीं, रहस्योत्पादन का उपक्रम बन जाता है। टेलिविजन के न्यूजरूम के ब्यौरे भी इसमें कथा के बेडौलपन के चलते अर्थहीन से हो जाते हैं।

शायद हिन्दी के जासूसी और सस्ते पाकेट बुक्स उपन्यासों का ऐसा ही सत्यकथाओं वाला उथलापन उन्हें किसी भी गंभीर साहित्यिक समीक्षा का विषय बनने से रोकता है।

.

कमेंट बॉक्स में इस लेख पर आप राय अवश्य दें। आप हमारे महत्वपूर्ण पाठक हैं। आप की राय हमारे लिए मायने रखती है। आप शेयर करेंगे तो हमें अच्छा लगेगा।

लेखक मार्क्सवादी आलोचक हैं। सम्पर्क +919831097219, arunmaheshwari1951@gmail.com

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

डोनेट करें

जब समाज चौतरफा संकट से घिरा है, अखबारों, पत्र-पत्रिकाओं, मीडिया चैनलों की या तो बोलती बन्द है या वे सत्ता के स्वर से अपना सुर मिला रहे हैं। केन्द्रीय परिदृश्य से जनपक्षीय और ईमानदार पत्रकारिता लगभग अनुपस्थित है; ऐसे समय में ‘सबलोग’ देश के जागरूक पाठकों के लिए वैचारिक और बौद्धिक विकल्प के तौर पर मौजूद है।
sablog.in




0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x