Category: पश्चिम बंगाल

पश्चिम बंगाल

‘टुंपा राजनीति’ और वाम

 

कल (28 फरवरी को) कोलकाता के विशाल ब्रिगेड परेड ग्राउंड में वाम-कांग्रेस-एएसएफ की चुनावी सभा है। यह वाम-कांग्रेस के चुनावी रण में उतरने की दुंदुभी बजाने वाली सभा है। अभी के चुनावी समीकरण को देखते हुए मीडिया में भले ही तृणमूल और भाजपा के बीच लड़ाई के बात की जा रही है, पर जमीनी हकीकत यह है कि अब क्रमशः इस लड़ाई को लोग त्रिमुखी कहने लगे हैं। और अगर यही सिलसिला जारी रहा तो कब इस कथित त्रिमुखी लड़ाई में से एक, बंगाल के लिए बाहरी तत्त्व, भाजपा का इसमें से निष्कासन हो जाएगा, पता भी नहीं चलेगा और मीडिया के लिए बंगाल का चुनाव चौंकाने वाला साबित होगा !इसकी संभावना इसीलिये सबसे अधिक प्रबल है क्योंकि मोदी राज के कुशासन से प्रताड़ित भारत में ही बंगाल भी है।

बहरहाल, चुनाव की गति पर अतिरिक्त निश्चय के साथ कुछ भी कहना इसीलिए उचित नहीं है क्योंकि चमत्कार आखिर चमत्कार ही होता है और किसी भी घटना प्रवाह में उसकी संभावना हमेशा बनी रहती है। इसीलिये हम अभी चुनाव परिणाम की संभावना पर कोई चर्चा करना नहीं चाहते। लेकिन इस बीच चुनाव प्रचार में ही जो कुछ सामने आ रहा है, वह अपने आप में कम दिलचस्प विषय नहीं है।

हम यहाँ खास तौर पर ब्रिगेड परेड ग्राउंड में वाम-कांग्रेस की सभा के लिए सीपीएम के प्रचार के एक बहुचर्चित विषय पर बात करना चाहेंगे। इस प्रचार में सीपीएम की और से जारी एक ‘टुंपा सोना’ गान की चर्चा चारों ओर हो रही है।

‘टुम्पा सोना’ एक अश्लील नाच के साथ बंगाल के सोशल मीडिया में पहले से वायरल काफी लोकप्रिय गीत है। इसी की धुन पर सीपीएम ने ब्रिगेड की अपनी सभा में शामिल होने के लिए एक नई ढब का आह्वानमूलक वीडियो तैयार किया है। सीपीएम के तमाम विरोधी इस धुन पर तैयार की गयी पैरोडी पर अभी काफ़ी नाक भौ सिकोड़ रहे हैं, पर यह भी सच है कि यह गीत अभी सबसे अधिक वायरल होने की वजह से सब यह भी मान रहे हैं कि इस अकेली धुन के बल पर वाम को अपनी ब्रिगेड रैली के संदेश को घर-घर पहुँचाने में काफ़ी मदद मिली है।

‘आनंदबाजार पत्रिका’ में आज ही अर्णव चट्टोपाध्याय ने लिखा है कि इस पैरोडी के बारे में तमाम सवालों के बाद भी “सच्चाई यह है कि बहुत सारे लोगों ने इस गान की बदौलत ही इस सभा के संदेश को सुना, बहुतों के मन में प्रचार की कुछ बातें पहुँची, बातों ही बातों में उनकी चेतना ब्रिगेड की राजनीति से भी कुछ जुड़ी, और संभव है कि उनमें कहीं बस भी गयी। इस सफलता, अथवा सफलता की संभावना को गौण करके नहीं देखा जा सकता है।”

यह भी पढ़ें – बंगाल, बंगालीपन और वामपन्थ

दरअसल, इस गीत पर चर्चा के क्रम में ही यह भी कहा जा रहा है कि यह बंगाल के वामपंथ में सिर्फ पीढ़ी के परिवर्तन का सूचक ही नहीं है, बल्कि यह सीपीएम के अपनी परम्परागत गंभीरता से मुक्त होने का भी संकेत है। ‘टुम्पा’ इस बात का संकेत है कि सीपीएम जवान हो रही है। जवान होने का असली अर्थ होताहै आकर्षक हो रही है। और शायद यही वजह है कि सीपीएम-विरोधी तमाम दल सीपीएम में पैदा हो रहे इस नये आकर्षण को लेकर गहरे रश्क का अनुभव कर रहे हैं, उसे मलिन करने पर टूट पड़े हैं।

यहाँ समस्या सिर्फ यह है कि सीपीएम में जवानी का यह आकर्षण राजनीति की किसी क्रांतिकारी चे ग्वारियन शैली से पैदा नहीं हुआ है। यह अपने साथ कुछ अश्लील इंगितों के लिये हुए है। विरोधियों ने इसे ही निशाना बनाया है। पर हम समझ सकते हैं कि अपने प्रचार के लिए कभी किसी प्रकार के शील-अश्लील की परवाह न करने वाली राजनीतिक ताकतें किसी नैतिक आवेश में सीपीएम के इस नए रूप का विरोध नहीं कर रही है, बल्कि सच यह है कि वेअपने पिछड़ जाने के अहसास से खिन्न हो कर खंभा नोच रही है।

पारंपरिक रूढ़िगत विषय से हटना ही तो समाज में अश्लील माना जाता है। पर साथ ही यह भी सच है कि इसी अश्लीलता में हमेशा एक अलग प्रकार की गति और आकर्षण हुआ करते हैं। यह ‘शीलवान’ जड़ता से मुक्ति का अहसास पैदा करती है।

हमें याद आती है हेगेल की वह प्रसिद्ध उक्ति जिसे मार्क्स भी अपने जीवन में दोहराया करते थे कि “किसी कुकर्मी के अपराधपूर्ण चिंतन में स्वर्ग के चमत्कारों से कम वैभव और गरिमा नहीं हुआ करती है।” मार्क्स के दामाद पॉल लफार्ग ने मार्क्स के संदर्भ में इस उक्ति को प्रयोग वहाँ किया है जहाँ वे कहते हैं कि “मार्क्स के लिये चिंतन सबसे बड़ा सुख था।” चिंतन मात्र की भव्यता और गरिमा को बताने के लिए ही वे हेगेल की उपरोक्त बात का जिक्र किया करते थे।

इसी सिलसिले में हमारे अंदर वाम में घर की हुई जड़ता का विषय कौंधने लगता है । आखिर वाम के अंदर की शक्ति का ही वह कौन सा अंश है जो अभी उसके अंदर ही जैसे निष्कासित हो कर अलग-थलग पड़ गया है और जिसके अभाव को न समझने के वजह से वाम में एक प्रकार की जड़ता जड़ें जमाए हुए है। टुंपा सोना गान और चिंतन मात्र की भव्यता के सूत्र को पकड़ कर ही हमें लगता है, यही जो चिंतन की परम्परा वाम की हमेशा की ताकत हुआ करती थी, उसकी सृजनात्मकता का अकूत भंडार, वही किन्हीं जड़सूत्रों की झाड़ियों में उलझ कर उसके अंदर ही संभवतः कहीं निष्कासित पड़ा है। उसमें इसके अभाव का बोध जब तक पैदा नहीं होगा, बौद्धिक समाज से उसके हमेशा के गहरे सम्बन्ध को फिर से हासिल करने का सिलसिला नहीं बनेगा, वाम की जड़ता की समस्या बनी रहेगी।

अंत में थोड़ा और भटकते हुए हम कहेंगे कि राजनीति में अपराधियों की साजिशाना हरकतों का एक ख़ास आकर्षण भी अजब प्रकार से आम लोगों को लुभाता है और उन्हें सफल बनाता है। बाबा लोगों की भद्र राजनीति से लोगों को वह राजनीति कहीं ज़्यादा अच्छी लगती है! यहाँ हम सीपीएम के इस गान का और इसके मूल रूप के लिंक दे रहे हैं।

https://www.hotstar.com/in/news/parody-tumpa-song-by-cpm-broke-the-internet-by-storm/1130802695

scroll.in/video/987445/watch-parody-of-bengali-hit-song-tumpa-sona-becomes-cpi-m-s-political-rally-theme-song

.

21Feb
पश्चिम बंगाल

बंगाल, बंगालीपन और वामपन्थ

  भाजपा की आक्रामकता ने बंगाल की दुखती रगों को फिर एक बार छेड़ दिया है इसी 19...

18Feb
पश्चिम बंगाल

बंगालियत और वामपन्थ: संदर्भ बंगाल चुनाव

  बंगाल का चुनाव अब भी एक टेढ़ी खीर ही बना हुआ है। हमारी नजर में इसकी सबसे बड़ी...

15Feb
पश्चिम बंगाल

बंगाल के चुनाव के संकेतों को पकड़ने का एक आधार

  बंगाल में 2021 के चुनावी रण की बिसात पर वाम-कांग्रेस के गठजोड़ के साथ पहला बड़ा...

11Feb
पश्चिम बंगाल

बंगाल का बदलता राजनैतिक समीकरण

  बंगाल चुनाव पर विश्लेषकों की नजर टिकी हुई है। उनके लिए यह आकलन करना मुश्किल...

01Feb
पश्चिम बंगाल

पश्चिम बंगाल में सत्ता की चाभी मुसलमानों के हाथ में है

  2021 में देश के पाँच राज्यों में विधान-सभा का चुनाव होने जा रहा है। ये राज्य...

01Feb
पश्चिम बंगाल

सांप्रदायिक ध्रुवीकरण और बंगाल का चुनाव

  पश्चिम बंगाल में भाजपा ने आगामी विधान सभा चुनावों में जीत के लिए अपनी पूरी...

28Jan
पश्चिम बंगाल

बंगाल की नयी राजनीतिक परिस्थितियों की पड़ताल

  बंगाल में ‘अच्छे दिन’ की सरकार  अर्थात् ममता बनर्जी का पराभवकाल  अर्थात्...

27Jan
पश्चिम बंगाल

किस रास्ते बंगाल?

  बंगाल चुनाव अगर भाजपा के लिए राष्ट्रीय स्तर की पार्टी बनने के रास्ते में एक...

16Jan
पश्चिम बंगाल

बंगाल में वाम-काँग्रेस की चुनौती

  बंगाल के चुनाव का परिदृश्य अभी तक एक जटिल पहेली है। पिछले लोकसभा चुनाव के...