Tag: प्रयागराज

उत्तरप्रदेशपुस्तक मेला

निराला सभागार में पुस्तक और पाठकों का मेला

 

  • शिवाशंकर पाण्डेय

 

इलाहाबाद विश्वविद्यालय के निराला सभागार में वाणी प्रकाशन की तरफ से पांच दिवसीय पुस्तक मेला का आयोजन किया गया। बड़ी तादाद में पुस्तक प्रेमी जुटे। उद्घाटन समारोह के अवसर पर पाठक-पाठकीय, लेखक और लेखन की प्रवृत्ति पर विस्तार से चर्चा हुई। पढ़ने की कमजोर पड़ती आदत पर चिंता जाहिर करते हुए समाज के लिए इसे नुकसानदेह बताया गया। कहा गया कि किताबें ज्ञान के अलावा आत्मबल भी बढ़ाने का कार्य करती हैं। अच्छी किताबें इंसान की सबसे बेहतर दोस्त और मार्गदर्शक साबित हुई हैं। इस पर भी चर्चा की गयी कि लेखकों की संख्या बढ़ने के बावजूद अच्छी पुस्तकों का अभाव अखरने की हद तक जा पहुंचा है। समारोह का उद्घाटन करने के बाद बतौर मुख्य अतिथि डॉ. कीर्ति कुमार ने कहा कि तेजी से बदलते दौर में अच्छी किताबों की जगह फेसबुक, वाट्सएप पर लोग जरूरत से ज्यादा समय दे रहे हैं, लती बन जाने की हद तक, यह खतरनाक भी है। वक्ताओं ने कहा कि अच्छी किताबें और पाठक दोनों का अभाव बनता जा रहा है। ऐसे में लेखक, प्रकाशक और पाठक तीनों को गंभीरता से सोचना होगा। कार्यक्रम के विशिष्ट रहे मीडिया स्टडीज सेंटर के समन्वयक डॉ. धनंजय चोपड़ा ने अच्छी किताबों का विस्तार से जिक्र किया। कहा, यह सच है कि इधर अच्छी पुस्तकों की संख्या घटती जा रही है पर यह भी सच है कि पढ़ने और सराहने वालों का भी अभाव है। पढ़ने की आदत जरूर बरकरार रखनी चाहिए। उनका कहना था कि किताबें ज्ञान बढ़ाने के अलावा आत्मबल बढ़ाती हैं, इसलिए यह उपयोगी है। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे उपन्यासकार डॉ. हेरम्ब चतुर्वेदी ने कहा कि अगर इंसानियत बचेगी तो किताबें बचेंगी।

उन्होंने जोर देकर कहा, विचारों की क्रांति किताबों से ही संभव है। इलाहाबाद विश्वविद्यालय के पुस्तकालय अध्यक्ष डॉ. बीके सिंह ने ऐसे आयोजनों को उपयोगी बताते हुए कहा कि अच्छी किताबों की तलाश में जो लोग भटकते और परेशान होते हैं उनको पुस्तक मेला में पसंदीदा किताबें मिल जाती हैं। इसी बहाने पाठक और प्रकाशक भी आमने-सामने होते हैं, जिससे उनके बदलती पसंद और जरूरत का पता चल जाता है। वरिष्ठ पत्रकार डॉ. प्रदीप भटनागर ने भी पुस्तक मेला की उपयोगिता पर विस्तार से प्रकाश डाला। कार्यक्रम का कुशल संचालन डॉ. अमरजीत राम, धन्यवाद ज्ञापन वाणी प्रकाशन के प्रयागराज शाखा के प्रबंधक विनोद तिवारी ने किया। इस अवसर पर अरविंद घोष, अभिषेक कुमार, नंदिता एकाकी, उत्तम सिंह, केके श्रीवास्तव समेत अन्य कई प्रमुख लोंग मौजूद रहे। पुस्तक मेला के आखिरी दिन काव्य पाठ का आयोजन किया गया। सुधांशु उपाध्याय, मनमोहन सिंह तन्हा, फरमूद इलाहाबादी, कविता उपाध्याय, रचना सक्सेना, डॉ. नीलिमा मिश्रा, जयश्री श्रीवास्तव, मीरा सिन्हा की कविताओं ने श्रोताओं का भरपूर मनोरंजन किया।

लेखक वरिष्ठ पत्रकार, और सबलोग के यूपी ब्यूरोचीफ हैं|

सम्पर्क –  +918840338705, shivas_pandey@rediffmail.com

.

21Aug
उत्तरप्रदेश

कत्ल से थर्राया यूपी, औंधे मुंह जीरो टॉलरेंस – शिवाशंकर पाण्डेय

  शिवाशंकर पाण्डेय   उत्तरप्रदेश के सहारनपुर में पत्रकार आशीष और उसके भाई...

18Aug
उत्तरप्रदेशराजनीति

मुस्लिम वोटों पर टिकी माया की नजर – शिवम त्रिपाठी

  शिवम त्रिपाठी   बसपा सुप्रीमो मायावती को नजदीक से जानने वाले मानते हैं कि...

04Aug
उत्तरप्रदेश

पत्रकारों के संघर्ष में साथ खड़ा मिलेगा महासंघ – शिवम त्रिपाठी

  शिवम त्रिपाठी   पत्रकारों के मान सम्मान बढ़ाने और उनके संघर्ष में कंधे से...

24Jul
उत्तरप्रदेश

योगी जी ये कौन सी पुलिसिंग है? – शिवाशंकर पाण्डेय

  शिवाशंकर पाण्डेय   यूपी में लाख कोशिश के बावजूद पुलिस सुधरने का नाम नहीं...