समाज

सर्व ह्यूमैनिटी सर्व गॉड – आशा किरण

 

  • अपने लिए जिए तो क्या जिए, तू जी दिल ज़माने के लिए

 

किसी कवि की यह पंक्तियाँ हर किसी को जीवन दर्शन का पाठ पद्धति हैं। परन्तु बहुत ही कम लोग ऐसे होते हैं जो इस पाठ को सही अर्थों में पढ़ते हैं तथा इसे ही अपने जीवन का उद्देश्य भी बना लेते हैं। ऐसे ही कुछ विरले लोगों की टोली है संस्था ‘सर्व ह्यूमैनिटी सर्व गॉड’ जो बहुत सारे लोगों के लिए शायद आशा की अंतिम किरण है।

दो दोस्तों को किसी घटना से मिली प्रेरणा वश प्रारम्भ हुई इस संस्था के तकरीबन 60/70 सदस्य जो खुद को  सेवादार कहलवाना पसंद करते हैं , पिछले चार साल से तन, मन तथा धन से समाज सेवा कर रहे हैं। निराश्रित वृद्धों को राशन, साधनहीनों को सर पर छत प्रदान करवाना तथा निर्धन कन्याओं के विवाह जैसे कार्य तो सामान्यत सभी समाजसेवी संस्थाएं ही करती हैं। परन्तु सर्व ह्यूमैनिटी सर्व गौड़ का विशेष उल्लेखनीय कार्य है पक्षाघात के उन रोगियों की देखभाल तथा इलाज जो शारीरिक अक्षमता, बढ़ती बीमारी एवं धन की कमी के चलते जीवन से हार चुके हैं। वे ज़िंदा हैं पर जीने की चाह नहीं हैं क्योंकि इन रोगियोंके शरीर पर सालों बिस्तर पर पड़े रहने के कारण गहरे घाव हो गए हैं। स्थिति इतनी भयावह है कि इनमें से कुछेक को तो उनके परिवार ने भी त्याग दिया है।

संस्था इन रोगियों के इलाज, कहने पीने तथा रहने कि निशुल्क व्यवस्था तो करती ही है, उनके साथ आये तीमारदारों से भी किसी किस्म का कोई  नहीं शुल्क नहीं लिया जाता। अब तक बहुत सारे लोग पूर्ण तौर पर ठीक होकर जीवन धारा में लौट चुके हैं। यदि आवश्यकता हो तो जीवन को सुचारू रूप से चलाने के लिए व्हीलचेयर भी प्रदान करवाई जाती है ।

इन रोगियों के लिए  चंडीगढ़ मोहाली सीमा स्थित  गांव रतवाड़ा में ‘रछपाल कौर आसरा फार परप्लेजिक पेशेंट’ केंद्र में रखा जाता है। रोगियों की देखभाल के लिए एक नर्स नियुक्त है जो 24 घंटे उपलब्ध रहती है । नगर के कुछ डाक्टर भी समय समय पर अपनी सेवाएं देने आते रहते हैं।

उल्लेखनीय है कि संस्था किसी प्रकार के सरकारी/गैर सरकारी अनुदान पर नहीं  अपितु सभी सदस्यों द्वारा अपनी आय के 10%  के योगदान से ही चल रही है। कुछ सदस्य विदेशों से भी लगातार अपना अंशदान करते हैं।

संस्था द्वारा किये जाने वाले मुख्य कार्य हैं

  • अप्रैल माह में फीस का लंगर जिस के अंतर्गत शिक्षकों की संस्तुति के बाद गरीब होनहार छात्रों की वार्षिक फीस  (42,000)जमा करवाई गई ।
  • पंजाब के विभिन्न शहरों में 4 अत्यंत गरीब परिवाओं को 6
  • 50 लाख की लागत से कमरा रसोई तथा स्नानगृह बनवाके दिया गया।
  • किडनी ट्रांसप्लांट के चार, आँखों के 16, सहित 20 अन्य आपरेशन निशुल्क करवाए गए।
  • 16 लाख के खर्च से वर्ष 2016 में 50 मरीज़ों का डायलिसिस करवाया गया।
  • प्रतिवर्ष नवंबर-जनवरी तक सर्दी की वर्दी तथा जूतों का लंगर लगाया जाता है जिस पर 2 से 2.50 लाख तक खर्च होते हैं।
  • विभिन्न शहरों में 90 विधवाओं को प्रति माह ३400 की दर से त्रैमासिक राशन दिया गया।
  • 14 अति गरीब परिवारों के लिए शौचालय बनवाये जे चुके हैं।

संस्था के सभी कार्यों की जानकारी फेसबुक पेज  https://www.facebook.com/servehumanityservegod/ पर उपलब्ध है।

 

अंजू वर्मा
लेखिका पंचकुला निवासी हैं  तथा नगर के एक डी ए वी विद्यालय में पिछले 19 साल से पढ़ा रही है|
सम्पर्क – anjusanskrit@gmail.com
Facebook Comments
. . .
सबलोग को फेसबुक पर पढ़ने के लिए पेज लाइक करें| 

लोक चेतना का राष्ट्रीय मासिक सम्पादक- किशन कालजयी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *