Category: स्तम्भ

अंतरराष्ट्रीयशख्सियतस्तम्भस्त्रीकाल

‘बेटी बचाने, बेटी पढ़ाने’ के लिए महायात्रा पर ‘मां’…

sablog.in डेस्क – भारूलता कांबले। भारत की बेटी, एक पत्नी, एक मां, एक कैंसर सर्वाइवर और ब्रिटिश गर्वनमेंट की पूर्व कर्मचारी। परिचय कई हैं, लेकिन, भारत के गुजरात स्थित नावासारी में पैदा होने का गौरव हासिल करने वाली भारूलता सिर्फ एक हैं। इन्हें कार चलाने का शौक है। लिहाजा, वक्त, वे-वक्त कार लेकर निकल पड़ती हैं। घूमने नहीं, सफर के मार्फत दुनिया को सीख देने, बेटी बचाने, बेटी पढ़ाने का। गाड़ी ड्राइव करके कई और संदेश इन्होंने दिए हैं। फिलहाल, ब्रिटेन में रह रहीं भारूलता ने एक और पहल की है। 13 अक्टूबर को बेटी बचाने, बेटी पढ़ाने का संदेश देने भारूलता कांबले बेटे प्रियम (13) और आरूष (10) के साथ 20 दिनों के दौरान 10 हजार किलोमीटर की दूरी तय करके आर्कटिक सर्किल का गाड़ी से चक्कर लगाएंगी। इस दौरान भारूलता 14 देशों से गुजरेंगी।

sablog.in से बातचीत के दौरान भारूलता ने बताया कि दो महीने पहले ही उन्होंने कैंसर से जंग जीती है। और, आर्कटिक सर्किल के सफर पर निकलने का फैसला लिया है। सफर के समापन पर आर्कटिक सर्किल के नॉर्डकॉप में भारतीय ध्वज को भी फहराएंगी। यात्रा का मकसद बेटी बचाने, बेटी पढ़ाने का संदेश है। दुनिया को बेेटी होने पर खुुश होने की वजह बताई जाएगी। बताया कि पिछले साल भी आर्कटिक सर्किल का चक्कर लगाने के साथ ही 32 देशों की यात्रा करते हुए भारत पहुंची थी। भारत में उन्होंने प्रधानमंत्री से मुलाकात की तो उनके सम्मान में भी कई कार्यक्रम आयोजित किए गए। वहीं यूनाइटेड किंगडम में उन्होंने साड़ी में गाड़ी कार्यक्रम का आयोजन किया था। जिसमें 120 महिलाओं ने लाल साड़ी में गाड़ी ड्राइव करके बेटी बचाने, बेटी पढ़ाने का संदेश दिया था। इसकी ब्रिटेन के साथ दुनियाभर में तारीफ हुई थी।

 

05Oct
पुस्तक-समीक्षासाहित्य

‘जा सकता, तो जरूर जाता’ पर काश! और लिखा जाता

पेशे से पत्रकार, कवि एवं लेखक दिनकर कुमार पूर्वोत्तर का चर्चित नाम है। वह इन...

04Oct
आँखन देखीदेशकालमुद्दाशहर-शहर से

जनतन्त्र और जनान्दोलन…

sablog.in डेस्क – यदि आज आप दुनिया के मानचित्र को लेकर बैठें और उसमें विश्व के...

28Sep
देशदेशकालस्तम्भ

राष्ट्र के समग्र विकास के पैरोकार रहे बाबा साहब डॉ. भीमराव अंबेडकर

sablog.in डेस्क – डॉ. भीमराव अंबेडकर विचार एवं दर्शन से दोनों विचारकों में बहुत...

28Sep
मुद्दाहरियाणा

मनोहर लाल के नाम एक चिट्ठी

हां, हम नतमस्तक नहीं थे धन्यवाद, मनोहर लाल जी कि आपने अपने दरबारियों से यह...

27Sep
चर्चा मेंदेशदेशकालस्तम्भ

आज से पति, पत्नी और ‘वो’ का रिश्ता अपराध नहीं- सुप्रीम कोर्ट

sablog.in  डेस्क- सुप्रीम कोर्ट ने साफ कर दिया है कि अब पति, पत्नी और ‘वो’ का...

26Sep
शख्सियतसिनेमासिनेमास्तम्भ

जन्मदिन विशेष : हर फिक्र को दरकिनार करके आगे बढ़ने वाला अदाकार

sablog.in डेस्क : ‘ना सुख है, ना दुख है, ना दिन है, ना दुनिया, ना इंसान, ना भगवान…...

23Sep
चर्चा मेंदेशकालमीडियास्तम्भ

एन ईवनिंग इन पेरिस-डील, डीलर और पीएम मोदी…

sablog.in डेस्क – एफ़िल टावर के नीचे बहती सीन नदी की हवा बनारस वाले गंगा पुत्र...

12Sep
साहित्यसिनेमासिनेमास्तम्भ

स्मृति शेष – उस पागल चंदर को कैसे भूले कोई…

sablog.in – पूरा तो याद नहीं, लेकिन जिले का नाम भागलपुर था, अब वहां किस लेखक का घर था,...

19Aug
देशदेशकालमुद्दाराज्य

केरल में राष्ट्रीय-मानवीय आपदा…

sablog.in डेस्क – टाइम्स ऑफ़ इंडिया में कार्टून है कि सारे कैमरे अटल जी की ओर लगे...

10Aug
दिल्लीपंजाबराज्यसामयिकस्तम्भहरियाणा

SYL नहर : पानी भले नहीं बही… बेधड़क बह रही राजनीति…

sablog.in डेस्क :- SYL (सतलज-यमुना लिंक) नहर। हरियाणा-पंजाब के बीच की नहर। करीब छह दशक हो...

05Aug
आवरण कथाचर्चा मेंदेशमीडियामुद्दास्तम्भ

जीत में, आश्चर्य में, डर में भी, खामोश नहीं रहती पत्रकारिता…

sablog.in डेस्क- ये रास्ता कहां जाता है?… जी हां, यह सवाल आप से है, आप उन दर्शकों से जो...

04Aug
सिनेमासिनेमास्तम्भ

कारवां- खुद को खुद से पाने की यात्रा का सफल अंज़ाम

sablog.in डेस्क – ‘वक्त तो रेत है फिसलता ही जायेगा, जीवन एक कारवां है चलता चला...

03Aug
चर्चा मेंदेशमुद्दा

हमारे समय के समाज में विकल्प हैं क्या?

sablog.in समय के अलग अलग दौर होते हैं और हर दौर में समय के मायने बदल जाते हैं. हमारे...

02Aug
चर्चा मेंदेशमीडियासामयिक

मास्टर स्ट्रोक अब बिना बाधा के आएगा, मास्टर (पुण्य प्रसून वाजपेयी) नहीं दिखेगा

#एबीपीन्यूज़ में पिछले 24 घंटों में जो कुछ हो गया, वह भयानक है. और उससे भी भयानक...

30Jul
पुस्तक-समीक्षासाहित्य

‘सभ्यों’ के खिलाफ बौद्धिक उलगुलान

sablog.in डेस्क –  महादेव टोप्पो की पुस्तक ‘सभ्यों के बीच आदिवासी’ विभिन्न...

30Jul
Uncategorizedदेशसामयिकसाहित्य

प्रेमचंद का साहित्यिक चिंतन

sablog.in डेस्क – यों तो प्रेमचंद जैसे कालजयी लेखक को तब तक नहीं भूला जा सकता है...

29Jul
आवरण कथाचर्चा मेंदेशदेशकाल

पाखण्ड, तेरी जय! धर्मनिरपेक्ष संविधान को धता बताने की विद्या भाजपा से ज़्यादा कौन जानता है?

sablog.in डेस्क- हाँ, यह सवाल कल 27 जुलाई को अमित शाह की इलाहाबाद यात्रा के बाद ज़रूर...

23Jul
आवरण कथासिनेमासिनेमास्त्रीकाल

“पति” में बसता “पत्नी” का “अभिमान”…

sablog.in डेस्क- “अभिमान” आखिर होता है क्या? इसे समझने का कोई पैमाना है या हम...

23Jul
चर्चा मेंदिल्लीदेशदेशकाल

चुनावी जुमला हल नहीं है बालिका खतने का

बालिका जननांग का अंगच्‍छेदन (फिमेल जेनिटल म्‍यूटिलेशन – एफजीएफ) या सरल भाषा...