Category: स्तम्भ

मुद्दाहरियाणा

मनोहर लाल के नाम एक चिट्ठी

हां, हम नतमस्तक नहीं थे

धन्यवाद, मनोहर लाल जी कि आपने अपने दरबारियों से यह पोस्टर और फोटो जारी करवा दिया। नहीं तो इतिहास के इस खूबसूरत क्षण का कोई प्रमाण हमारे पास नहीं था: हरियाणा का मुख्यमंत्री खड़ा है और किसानों का प्रतिनिधिमंडल मुढढे पर बैठा हुआ है। काश लोकतंत्र में ऐसी तस्वीर बार बार दिखाई देती!

 

मैं मान रहा हूं कि आपके मुंहलगों ने यह काम आपके इशारे के बिना नहीं किया होगा। अच्छा हुआ इस बहाने पता लग गया कि “नागरिकों” के सिर्फ बैठे रहने से अहंकारी सत्ता कितनी परेशानी होती है।

इस तस्वीर के पीछे की कहानी आप जानते हैं। लेकिन पोस्टर देखने वालों को समझ नहीं आएगी इसलिए बता दूं:

* पिछले साल भर में किसानों की समस्याओं के बारे में आपको कई प्रतिवेदन और ईमेल भेज चुके हैं। जवाब छोड़ो, एक बार भी पावती तक नहीं आई।

* 31 जुलाई को 1500 किसानों के हस्ताक्षर के साथ बाजरा की खरीद के बारे में आपके नाम प्रतिवेदन भेजा था। ना कार्यवाही, ना जवाब, ना पावती।

* 4 सितंबर को सरकार को बाजरा किसान की दिक्कत बयान करते हुए ईमेल भेजा। आपको प्रति भेजी। ना जवाब, ना पावती।

* 18 सितंबर को स्वराज इंडिया हरियाणा के महासचिव दीपक लांबा ने आप के दफ्तर आकर किसानों के प्रतिनिधिमंडल के लिए समय मांगा। कोई तारीख नहीं मिली। फोन पर याद दिलाया, कोई जवाब नहीं मिला।

* 20 सितंबर को आपको ई-मेल लिख कर किसान प्रतिनिधिमंडल के लिए समय मांगा। कोई सवाल जवाब नहीं।

* कल 27 सितंबर को चंडीगढ़ पहुंच कर ट्वीट के माध्यम से फिर मैंने मुलाकात के लिए याद दिलाया। कोई जवाब नहीं।

* हमें पत्रकारों से सूचना मिली कि आप निवास पर है तो 1:30 बजे हम वहां पहुंचे, मिलने का समय मांगा। हमें बताया गया कि मुख्यमंत्री प्रतिनिधिमंडल से मिलेंगे और फिर अंदर ले जाकर स्टील की पाइप और लोहे की जाली के पीछे बैठा दिया गया, जहां मुख्यमंत्री जनता के दर्शन करने आते हैं। डेढ़ घंटे बाद आप दर्शन देने आए। आपके कमांडो ने आकर हुक्म दिया “सब खड़े हो जाओ”। तब हमने फैसला किया कि हम बैठे रहेंगे। जो लोग आपके दर्शन की अभिलाषा में आए थे वह नतमस्तक थे, गदगद थे, गुलदस्ते दे रहे थे। हम किसान का दुख दर्द और आक्रोश बताने आए थे, जनता के प्रतिनिधि से हिसाब मांगने आए थे।

हां, हमने बैठे बैठे सवाल पूछे!

हां, हमने तीखे सवाल पूछे!

हां, हमने ऐसे सवाल पूछे जिसका आपके पास जवाब नहीं था!

मुख्यमंत्री से कोई शालीन लेकिन सीधी बात कर सकता है यह देखकर आप के दरबारी भौचक्के थे। लेकिन मुझे उस वक्त लगा कि आपने शालीनता से जवाब दिया। मुलाकात के लिए समय न मिलने के बारे में आपने हैरानी और दुख जाहिर किया। इसलिए मैंने बाहर आकर इस प्रकरण को मीडिया में नहीं उठाया।

लेकिन जब आपके दरबारियों ने आपके इशारे पर यह पोस्टर जारी कर ही दिया है, तो मैं भी अपने मन की बात कह दूं:-

बाजरा के किसानों ने रेवाड़ी में मुझे अपनी आवाज उठाने के लिए पगड़ी पहनाई थी। मुझे गर्व है कि मैंने उनकी पगड़ी नीची नहीं होने दी। लोकतंत्र के लिए वह शुभ दिन होता है जब कुर्सी वाले खड़े हों, और जनता बैठी हो। जो नेता और उसके दरबारी इतना भी बर्दाश्त नहीं कर सकते उनका अहंकार लोकतंत्र तोड़ता है।

आपका शुभचिंतक,

आपके राज्य का एक नागरिक,

योगेंद्र यादव

पुनश्च: अगर आप अपने दरबारियों की हरकत से असहमत हैं तो मुझे क्षमा कीजिएगा। और इन छुटभईयों को राजदरबार और लोकतंत्र का फर्क समझा दीजिएगा।

योगेंद्र यादव

लेखक स्वराज अभियान के राष्ट्रीय संयोजक हैं.

@yogendraYY के फेसबुक से साभार

27Sep
चर्चा मेंदेशदेशकालस्तम्भ

आज से पति, पत्नी और ‘वो’ का रिश्ता अपराध नहीं- सुप्रीम कोर्ट

sablog.in  डेस्क- सुप्रीम कोर्ट ने साफ कर दिया है कि अब पति, पत्नी और ‘वो’ का...

26Sep
शख्सियतसिनेमासिनेमास्तम्भ

जन्मदिन विशेष : हर फिक्र को दरकिनार करके आगे बढ़ने वाला अदाकार

sablog.in डेस्क : ‘ना सुख है, ना दुख है, ना दिन है, ना दुनिया, ना इंसान, ना भगवान…...

23Sep
चर्चा मेंदेशकालमीडियास्तम्भ

एन ईवनिंग इन पेरिस-डील, डीलर और पीएम मोदी…

sablog.in डेस्क – एफ़िल टावर के नीचे बहती सीन नदी की हवा बनारस वाले गंगा पुत्र...

12Sep
साहित्यसिनेमासिनेमास्तम्भ

स्मृति शेष – उस पागल चंदर को कैसे भूले कोई…

sablog.in – पूरा तो याद नहीं, लेकिन जिले का नाम भागलपुर था, अब वहां किस लेखक का घर था,...

19Aug
देशदेशकालमुद्दाराज्य

केरल में राष्ट्रीय-मानवीय आपदा…

sablog.in डेस्क – टाइम्स ऑफ़ इंडिया में कार्टून है कि सारे कैमरे अटल जी की ओर लगे...

10Aug
दिल्लीपंजाबराज्यसामयिकस्तम्भहरियाणा

SYL नहर : पानी भले नहीं बही… बेधड़क बह रही राजनीति…

sablog.in डेस्क :- SYL (सतलज-यमुना लिंक) नहर। हरियाणा-पंजाब के बीच की नहर। करीब छह दशक हो...

05Aug
आवरण कथाचर्चा मेंदेशमीडियामुद्दास्तम्भ

जीत में, आश्चर्य में, डर में भी, खामोश नहीं रहती पत्रकारिता…

sablog.in डेस्क- ये रास्ता कहां जाता है?… जी हां, यह सवाल आप से है, आप उन दर्शकों से जो...

04Aug
सिनेमासिनेमास्तम्भ

कारवां- खुद को खुद से पाने की यात्रा का सफल अंज़ाम

sablog.in डेस्क – ‘वक्त तो रेत है फिसलता ही जायेगा, जीवन एक कारवां है चलता चला...

03Aug
चर्चा मेंदेशमुद्दा

हमारे समय के समाज में विकल्प हैं क्या?

sablog.in समय के अलग अलग दौर होते हैं और हर दौर में समय के मायने बदल जाते हैं. हमारे...