Category: शख्सियत

शख्सियतसिनेमासिनेमास्तम्भ

जन्मदिन विशेष : ‘बस एक बार मेरा कहा मान लीजिए’…

sablog.in डेस्क – वो बॉलीवुड के लिए आज भी बिंदास हैं, क्योंकि वो आज भी उतनी ही हसीन और जवान हैं जितनी आज से तीस साल पहले थीं। जी हां, बात हो रही है बॉलीवुड की उमराव जान की, जिनकी जिंदगानी आज भी एक पहेली बनी हुई है। जी हां, उमराव जान कही जाने वाली बॉलीवुड की सदाबहार अभिनेत्री रेखा की जिंदगी किसी पहेली से कम नहीं है। जिसने भी इसे जितना समझने की कोशिश की, वो उतना ही उलझता गया।

2006 में रिलीज हुई ‘परिणीता‘ फिल्म के इस गाने को पढ़िए, जैसी ही रेखा की जीवनगाथा है। पहेली, कैसी पहेली है ये जिंदगानी… दरअसल, आज रेखा के बारे में कुछ भी कहना बिलकुल बेमानी है, क्योंकि अपनी साधना के बलबूते उन्होंने आज भी खुद को मेंटेन कर रखा है। ये तो आप जानते ही हैं। क्योंकि, जब कभी वो किसी अवार्ड फंक्शन में जाती हैं तो लोगों की तो छोड़िए, कैमरे भी उन्हें ही कैद करने उनकी ओर दौड़ जाते हैं। और, रेखा यूं ही इतनी खूबसूरत नहीं बनीं हैं, बल्कि इसके पीछे है उनकी मेहनत और उनका परहेज, जो आज की उम्र में भी उन्हें बला की खूबसूरत बनाए हुए है। रेखा रोजाना दो घंटे से ज्यादा योग करती हैं, और खानपान का भी पूरा ध्यान रखती हैं। इसलिए तो वे आज जितनी फिट हैं, उतनी आज के समय की अभिनेत्रियों भी नहीं हैं।

रेखा ने जब बॉलीवुड की दुनिया में पहला कदम रखा था, तो उनकी उम्र करीब 13 साल थी। लेकिन, एक बार जो रेखा ने शुरुआत की, उसके बाद पीछे मुड़कर नहीं देखा। जीवन में कई मोड़ आए, उतार-चढ़ाव आए, लेकिन बेलौस रेखा उन्हें पार करती हुई आगे बढ़ती गई। एक समय था जब बॉलीवुड में उनकी तूती बोलती थी। कमर तक लटकी चोटी और ठुमके का निराला अंदाज। इस रेखा को आप एकबारगी पहचान नहीं पाएंगे।

लेकिन इससे पहले कि आप कुछ और सोचने लगें, हम आपको बता दें कि ये रेखा की पहली फिल्म थी और इस फिल्म के समय रेखा की उम्र महज 13 साल थी, तो जाहिर है पहचान में फर्क तो आएगा ही, लेकिन खेतों में ठुमके लगाती रेखा ने उन दिनों फिल्म देखने वालों के होश उड़ा दिये थे। जब आंखें नशीली हों तो दर्शकों पर कुछ तो असर पड़ेगा ही… इस फिल्म ने बॉलीवुड में रेखा की धमाकेदार एंट्री कराई और सुपरहिट साबित हुई।

फिल्म ‘सावन भादो‘ से रेखा ने डेब्यू किया था और जब शुरुआत धमाकेदार हो तो लोग अभिनय तो सराहते ही। रेखा रातों रात करोड़ों लोगों की फेवरेट स्टार बन गई। लेकिन जैसा कि पहले ही कहा गया कि रेखा की जिंदगी पहेली ही रही और ये कभी सुलझ नहीं सकी। ‘सावन भादो‘ के बाद भी रेखा ने कई फिल्में दी। 1972 में रेखा खेतों से निकल कर सड़क पर आ गई। वो भी एक खुली कार में सवार होकर, ‘अलबेला‘ को रोकने के लिए, जो उसका दिल तोड़कर जा रहा था। इसमें रेखा पर फिल्माया गया गाना खूब चला।

 

इसके अलावा रेखा ने ‘गोरा और काला’, ‘कहानी किस्मत की’, ‘नमक हराम’, ‘प्राण जाए पर वचन ना जाए’ और ‘धर्मात्मा’ जैसी कई सुपरहिट फिल्मों में अपने अभिनय का लोहा मनवाया। लेकिन ये दौर नायकों का था और जैसे नायिकाओं की किस्मत सो गयी थी, ऐसा ही रेखा के साथ भी हुआ, फिल्मों की कामयाबी का श्रेय फिल्म के अभिनेता ले गये। और वे अपना दुख जताने के अलावा और कुछ ना कर सकीं। आज भी वो बॉलीवुड में सक्रिय हैं। और, उन्होंने स्टारडम की दुनिया में जो रेखा खींच दी है, उसकी बराबरी करना फिलहाल किसी के बूते की बात नहीं है।

(ये लेखक के अपने विचार हैं।)

राजन अग्रवाल
(लेखक पत्रकार हैं. )
rajan.journalist@gmail.com

08Oct
शख्सियतसमाजहरियाणा

‘समानता और समाजवाद’ से ‘सबका साथ, सबका विकास’ तक

अग्र शिरोमणि महाराजा अग्रसेन की जयंती पर विशेष- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से...

05Oct
अंतरराष्ट्रीयशख्सियतस्तम्भस्त्रीकाल

‘बेटी बचाने, बेटी पढ़ाने’ के लिए महायात्रा पर ‘मां’…

sablog.in डेस्क – भारूलता कांबले। भारत की बेटी, एक पत्नी, एक मां, एक कैंसर सर्वाइवर...

26Sep
शख्सियतसिनेमासिनेमास्तम्भ

जन्मदिन विशेष : हर फिक्र को दरकिनार करके आगे बढ़ने वाला अदाकार

sablog.in डेस्क : ‘ना सुख है, ना दुख है, ना दिन है, ना दुनिया, ना इंसान, ना भगवान…...

23Jul
देशशख्सियत

फूलन देवी : सड़क से संसद तक

“अबला है कमजोर नहीं है, शक्ति का नाम ही नारी है, जैसे वाक्य को चरितार्थ करता...

20Jul
आवरण कथाशख्सियतसामयिकसाहित्यस्तम्भ

‘अब कारवां गुजरने के बाद गुबार देखना मुनासिब नहीं’

साल 2011 का अक्टूबर का महीना था शायद, झारखंड की सांस्कृतिक राजधानी देवघर और...

15Mar
छत्तीसगढ़शख्सियत

छत्तीसगढ़ : एक सूरज का अस्त होना

सुप्रसिद्ध भरथरी गायिका सुरुज बाई खांडे का बिलासपुर के निजी अस्पताल में...

24Jan
देशशख्सियतसमाज

जननायक कर्पूरी ठाकुर: अपमान का घूँट पीकर बदलाव की इबारत लिखने वाला योद्धा

पिछड़ों-दबे-कुचलों के उन्नायक, बिहार के शिक्षा मंत्री, एक बार...

03Jan
महाराष्ट्रशख्सियतसमाज

सावित्रीबाई फुले कैसे बनीं प्रथम महि‍ला शिक्षिका

सावित्री फुले के 187वें जन्म दिन पर विशेष आपने सुना होगा कि पुरुष की सफलता के...

19Dec
चर्चा मेंदेशशख्सियत

स्मृतिशेष : जीवन का अर्थ: अर्थमय जीवन

प्रसिद्ध पर्यावरणविद अनुपम मिश्र की आज पुण्यतिथि है। अनुपम मिश्र स्वयं...