Category: आर्थिकी

आर्थिकीशिक्षा

10 प्रतिशत गरीब सवर्ण आरक्षण एक ऐतिहासिक धोखा है

 

  • दीपक भास्कर 

 

देश के सभी सरकारी संस्थानों में 10 प्रतिशत गरीब सवर्णों का जातिगत आरक्षण लागू करने के लिए रॉकेट गति से काम हो रहा है। दिल्ली विश्विद्यालय में मीटिंग पर मीटिंग हो रही है। लेकिन दिल्ली विश्विद्यालय में यह नौकरी देने के बजाय नौकरी छीनने का हथियार साबित हो रहा है। 31 जनवरी 2019 को केंद्र सरकार की तरफ से 10 प्रतिशत आरक्षण को लेकर एक पत्र आया, उसको अगर ठीक-ठीक, अक्षरशः पढ़ा जाय तो साफ पता चलता है कि देश की आजादी के बाद आजतक किसी सरकार ने इससे बड़ा “धोखा” देने वाली नीति नहीं बनाई। यह आरक्षण असल में इस देश के साथ ऎतिहासिक धोखा है। कुछ बातें इसमें गौर करने लायक है।

पहली बात, पत्र के “अनेक्सचर एक” में प्रमाण पत्र का प्रारूप है जिसमें “जाति” की मांग है मतलब साफ है कि यह आरक्षण भी जाति को इंगित करता है। तो इस बात में कोई दो राय नहीं कि यह आरक्षण असल में आर्थिक मुखौटा ओढ़े हुए जातिगत आरक्षण ही है।

दूसरी तरफ, यह आरक्षण में आने के लिए आपको गरीब होना पड़ता है। दिल्ली विश्विद्यालय में करीब 10000 शिक्षक कार्यरत हैं जिसमें करीब 4500 एडहॉक शिक्षक हैं। 10 प्रतिशत के हिसाब से करीब 1000 सीट ईडब्लूएस बनता है। अब दिल्ली विश्विद्यालय का एक भी एडहॉक शिक्षक इस कैटेगरी में नहीं आता है। क्योंकि क्राइटेरिया के हिसाब से जिस साल कोई यह सर्टिफिकेट बनाएगा तो आय पिछले वित्तीय वर्ष का माना जायेगा। अब ऐसे में एडहॉक शिक्षक जिसकी वार्षिक आय करीब 10 लाख रुपये है उसे नौकरी से रिजाइन कर बेरोजगार होना पड़ेगा, गरीब होना होगा तभी वह जातिगत ईडब्लूएस आरक्षण का लाभ ले सकेगा।

अब इसमें और भी खेल है। आप अगर गरीब हो भी गए तो उस पत्र में “परिवार” की इनकम को परिभाषित किया गया है। उसको ढंग से पढ़ने से पता चलता है कि शायद ही कोई सवर्ण एडहॉक शिक्षक परिवार इस आरक्षित कैटेगरी में आता हो।

दिल्ली विश्विद्यालय में 10 प्रतिशत के हिसाब से 1000 शिक्षक पहले बेरोजगार होंगे, गरीब होंगे, कम से कम एक साल तक नौकरी से बाहर रहेंगे और फिर दुबारा अगर सीट आई तो वह इंटरव्यू देंगे, सेलेक्ट हुए तो नौकरी मिलेगी, जिसकी संभावना लगभग नगण्य है। क्योंकि दिल्ली विश्विद्यालय में कॉन्ट्रैक्ट पर नियुक्ति भी सामने ही खड़ा है।

तीसरी महत्वपूर्ण बात यह है कि इंदिरा साहनी केस में सर्वोच्च न्यायालय ने साफ तौर पर यह कहा है कि आरक्षण 50 प्रतिशत से ज्यादा नहीं हो सकता, 50 प्रतिशत को अनारक्षित रखना अनिवार्य है। ऐसे 10 प्रतिशत, अनारक्षित 50 प्रतिशत से ही निकल रहा है। सरकार ने 27 प्रतिशत ओबीसी आरक्षण लागू करते समय में, 54 प्रतिशत सभी कैटेगरी में सीटें बढ़ाते हुए आरक्षण लागू किया ताकि किसी भी कैटेगरी को नुकसान न हो लेकिन इसमें सरकार की तरफ से अभी तक किसी भी तरह 10 प्रतिशत आरक्षण लागू करने के लिए सीटें आवंटित नहीं की गई है। सरकार ने सीटों का व्योरा तो मांग लिया लेकिन अभी तक दिया नहीं। मतलब मंशा साफ है कि जितनी सीटें पहले से हैं उसी में इस आरक्षण को लागू करना है। अगर ऐसा हुआ तो हजारों लोग बेरोजगार हो जाएंगे।

दिल्ली विश्विद्यालय शिक्षक संघ(डीयूटीए) ने इस आरक्षण को लागू करने के लिए सरकार को, वादे के मुताबिक 25 प्रतिशत सीटें और इसको लागू करने के लिए जरूरी इंफ्रास्ट्रक्चर मांगी है और बहुत साफ तौर पर कहा है कि काम कर रहे शिक्षक किसी भी हालत में बाहर नहीं किये जायेंगे। लेकिन जब अब नए सेशन को शुरू होने में मजह दो महीने बचे हैं और सरकार एवं प्रशासन का रवैया कतई सकारात्मक नहीं दिख रहा है।

इस आरक्षण को लागू करने की बात तो दूर पहले, इस धोखे को समझने की जरूरत है। यह एक ऐसा “ऐतिहासिक धोखा” है जिसे समझने के बाद दिल बैठ जाना स्वाभाविक है लेकिन ‘मोदी-मोदी’ के चक्कर में इस धोखे को शायद ही कोई समझने की कोशिश कर रहा है। शुरुआत में जातिवादी लोगों ने इसे खूब सराहा और अब वही लोग अपनी नौकरी बचाने के लिए दिन-रात आफिस में ‘रोस्टर’ में पता करने की कोशिश कर रहे हैं कि कहीं उसकी सीट तो ईडब्लूएस में नहीं चली गयी। बात “किसी सीट” के ईडब्लूएस में चले जाने की नहीं है बल्कि “किसी की भी सीट” चले जाने की है। नौकरी आपकी जाय या किसी और की, लेकिन नौकरी जानी तय है।

और भी बहुत बातों के साथ, एक अंतिम बात यह समझना जरूरी है कि मोदी सरकार ने इस देश की जनता के साथ एक “ऐतिहासिक धोखा” किया है। समय रहते अगर कोई न चेता तो इसका नुकसान भी ऐतिहासिक ही होगा।

असल में ओबीसी आरक्षण लागू करने के लिए सरकार ने जो वादे किए थे वो ही आजतक पूरा नहीं हुआ। अभी शिक्षकों की दूसरी खेप सरकार को देना है अगर वो देते हैं तो दिल्ली विश्विद्यालय में 3500 नए शिक्षक होंगे मतलब कुल संख्या तकरीबन 14000 होगी और इसपर 10 प्रतिशत 1400 होगा लेकिन सरकार दूसरी खेप तो छोड़िए 10000 का 10 प्रतिशत भी देने को तैयार नहीं है। नए सेशन शुरू होने से ही दिल्ली विश्विद्यालय में कत्लेआम शुरू होगा और जेट एयरवेज के कर्मचारी की तरह दिल्ली विश्विद्यालय के सवर्ण शिक्षक भी आंखों में आंसुओं की बड़ी बड़ी बूंदे लिए जंतर-मंतर पर दिखेंगे। अब यह देखना है कि डीयूटीए इस कत्लेआम को कैसे बचा सकेगा? बाकी बेरोजगारी 45 साल के इतिहास में अपने चरम पर है।

#सत्यमेवजयते

लेखक दिल्ली विश्विद्यालय के दौलतराम कॉलेज में राजनीतिशास्त्र पढ़ाते है और सामाजिक एवं राजनैतिक मुद्दे पर बेबाकी से लिखते हैं।

deepakbhaskar85@gmail.com

 

11Mar
आर्थिकी

आम जनता की जमा पूँजी पर आशंका के बादल

    वित्‍तीय समाधान और जमा बीमा विधेयक 2017 (एफआरडीआई)के जमानती खंड को लेकर लोगों...