Category: सिनेमा

सिनेमा

हाँ! मुझे सिनेमा देखना अच्छा लगता है – स्वतंत्र मिश्र

 

  • स्वतंत्र मिश्र

 

मैं दो दिन पहले हैदराबाद में दे दे प्यार देखने एक मल्टीप्लेक्स गया| यहाँ मैंने टिकट लेते समय पूछा कि हॉल नम्बर कितना है? उसे मेरा सवाल ही समझ में नहीं आ रहा था| तीन बार पूछने के बाद उसने दिमाग दौड़ाया और फिर कहा—स्क्रीन नम्बर टू| मुझे लगा कि शायद मैं पीछे छूट गया हूँ और मैं अपने शहर के सिनेमा हॉल में देखी गई फिल्मों की यादों में खो गया| टिकट ब्लैक होने से लेकर, टिकटों को लेकर खिड़की पर मारपीट और सीटियाँ और फूहड़ से लेकर वाह-वाह के कमेंट तक सब याद आने लगे|

मैं एक छोटे से शहर जमालपुर का रहने वाला हूँ| मेरे यहाँ टीवी नहीं था और टीवी देखने के लिए बहुत मशक्कत करनी होती थी| आठवीं, नौंवी में गया तो चोरी से फिल्में देखने की आदत डाल ली| वहाँ दो सिनेमा हॉल था- अवंतिका सिनेमा और रेलवे सिनेमा| हम सिनेमा देखने 8 किलोमीटर दूर मुंगेर और 53 किलोमीटर दूर भागलपुर भी चले जाते| यह सिलसिला आगे चलता रहा| पटना, भागलपुर, मुजफ्फरपुर, मुंगेर, जमालपुर का कोई सिनेमा हॉल या​ वीडियो हॉल रहा होगा जहाँ मेरे कदम ना पड़े हों| मैंने खुर्जा, हवेली खड़गपुर, तारापुर, आगरा, जयपुर, भोपाल, शिमला और देवास में सिनेमा देखा है|

जमालपुर के सिनेमाघरों में नई फिल्मों से ज्यादा पुरानी फिल्में लगती थीं| मैंने यहाँ मदर इंडिया, मुगल-ए-आजम, वक्त, आंखें, राजा और रंक, खिलौना, शराबी, शोले, पत्थर के सनम, इंकलाब आदि बहुत सारी फिल्में दिखी|

दिल्ली में जब कॉलेज में पढ़ने लगा तब शुक्रवार को कई बार तीन-तीन सिनेमा एक दिन में देखा| एक आध बार तो चार सिनेमा देख लेता था| एक दिन में दो सिनेमा देखने की तो गिनती ही नहीं है| दिल्ली में भी सभी सिनेमाघरों में फिल्म देखने का दावा तो नहीं कर सकता, लेकिन 60-70 सिनेमाघरों में तो सिनेमा देख ही ली होगी| हैदराबाद में भी यह सिलसिला जारी है| हैदराबाद में दो साल में कम से कम 100 फिल्में तो देख ही गया होउंगा| मैं सिनेमा देखने के लिए 50-60 किलोमीटर स्कूटर चला लेता हूँ| यही काम मैं खाने के लिए कर लेता हूँ| इन कामों में मुझे कभी भी थकान नहीं होती है| सबसे बड़ी बात यह है कि मुझे सिनेमा देखने के लिए किसी की कम्पनी की दरकरार नहीं होती है| मैं अकेले सिनेमा देखने चला जाता हूँ|

आज पुरानी फिल्मों को देखने के लिए हॉल ही नहीं उपलब्ध हैं| अब नई फिल्में मल्टीप्लेक्स या सिंगल स्क्रीन पर देखता हूँ| टीवी पर हिन्दी, अंग्रेजी सिनेमा देखता हूँ| हालाँकि, टीवी पर ज्यादातर समय सिनेमा के कुछ सीन देखने के बाद उकताहट पैदा होने लगती है| एक बात और टीवी पर भी सिनेमा देखते हुए मैं खिड़की और दरवाजे बन्द कर अंधेरा करता हूँ और माहौल बनाता हूँ|

अब पुरानी नहीं देखी हुई या पहले देख ली गई फिल्मों को देखने के लिए यूट्यूब का सहारा ले रहा हूँ और यह बेहतर विकल्प है| लेकिन, अपने शहर के सिंगल स्क्रीन को बहुत मिस करता हूँ| अब वे बन्द हो गई हैं| कहीं जादू दिखाया जाता है तो कहीं शादियाँ होती हैं|

लेखक टीवी पत्रकार हैं|

सम्पर्क-  +919521224141,

 

23Apr
सिनेमा

सिनेमा: मनोरंजन बनाम फूहड़ता

  कर्ण सिंह   आज समय की रफ्तार को तो जैसे पंख लग गए हैं, वक्त के साथ हर चीज का...

29Mar
सिनेमा

केसरी : युद्ध के मुलम्मे में मानवीयता के बाईस पहरेदारों की कहानी

  अमित कुमार सिंह   हाल के दिनों में इतिहास की कहानियों का पन्नों से उतरकर...

15Mar
सिनेमास्त्रीकाल

सिनेमा की नयी स्त्री

  यशाश्विनी पाण्डेय   हिंदी सिनेमा या यूँ कहे पूरा भारतीय सिनेमा व समाज ही...

11Mar
सिनेमा

   “सोनचिड़िया : रेत पर नाव खेने की कहानी”

  अमित कुमार सिंह   आज के दौर में अगर डकैती पर केन्द्रित कोई फिल्म बनती है, तो...