Category: दिल्ली

चर्चा मेंदिल्लीदेशसमाज

भीड़ लोकतंत्र की ही हत्या कर दे उसके पहले…

sablog.in डेस्क/ शनिवार को ही दिल्ली के रोहिणी में एक व्यक्ति को चोरी के आरोप में भीड़ ने जान से मार डाला। देश की राजधानी में होने वाली यह पहली घटना नहीं है। 25 नवम्बर को 24 वर्ष के एक युवक को कार की बैट्री चुराने  के आरोप में बिजली के खम्भे से बाँध कर इतना पीटा कि उसकी मौत हो गई। 4 सितम्बर को 16 वर्ष के एक लड़के को मुकंदपुर में पड़ोसियों ने चोरी के आरोप में मार डाला। 11 जुलाई को 31 साल के व्यक्ति को बुराड़ी में भीड़ ने मार डाला। 30 जून को सरिता विहार में एक युवक भीड़ के द्वारा हत्या के  डर से छत से गिर कर मर गया। यह  तो पिछले कुछ ही महीनों की बात है,यदि हम वर्षों का हिसाब करें तो संख्या बहुत डरावनी हो जाएगी।

यह मामला केवल हिंदू मुस्लिम का नहीं है, बल्कि हमारे समाज में कुछ ऐसा चल रहा है जिसे हम समझ नहीं पा रहे  हैं। आश्चर्य है कि हमारे देश के मनोवैज्ञानिक इस पर कुछ कह नहीं रहे हैं। क्या गांधी के इस देश में हिंसा ही हमारी मानसिकता हो गई है? क्या हम सभ्यता से वापस बर्बरता  की ओर लौट रहे हैं?  लगता है कि हमारे अंदर का दैत्य बाहर आ रहा है।

बाहर हो रही हिंसा का स्रोत हमारे अंदर ही है। हमारा समाज अंदर से बैचेन और असुरक्षित होता जा रहा है। हम अविश्वास के नए युग में प्रवेश कर रहे हैं। हमारे समाज में सद्भाव और परस्पर विश्वास की भावना तो विलुप्त हो ही रही है,हमारा खुद  पर विश्वास कमता जा रहा है। बढ़ते अविश्वास का  एक कारण तो यह भी हो सकता कि हमारा देश आर्थिक संकट से गुज़र रहा है। अभावग्रस्त होने के चलते हम मानसिक तौर पर इतने परेशान हैं कि छोटी सी बात पर ग़ुस्सा करना हमारा स्वभाव होता जा रहा है। अपने इस असंतोष और असफलता के कारण हमारी मानवीय संवेदना  भीड़ की अराजक और अनियंत्रित उत्तेजना में तब्दील होती जा रही है। यह स्थिति बेहद ख़तरनाक है क्यों कि इस भीड़तंत्र का अगला पड़ाव फसीवाद  ही है।

भीड़ की हिंसा इस बात का प्रमाण है कि कानून के शासन पर हमारा भरोसा नहीं रहा। हम मानते हैं कि यदि अपराधी को हम पुलिस के हवाले करेंगे तो पुलिस पैसे लेकर उसे छोड़ देगी। आम लोगों का विश्वास यदि पुलिस, प्रशासन और न्यायिक व्यवस्था पर नहीं रहा तो भारत जैसे बड़े लोकतंत्र  में सामाजिक संकट और भी बढ़ सकता है।

हमारा समाज यदि जनतांत्रिक नहीं होगा तो हमारी राजनीति कभी जनतांत्रिक नहीं हो सकती है। इसके पहले कि हम राजनैतिक क्रांति की बात करें हमें ज़रूरत है एक सामाजिक क्रांति की जिससे हमें सभ्यता के कुछ नुस्ख़े सीखने में सहायता मिले। अन्यथा हमारी राजनीति ही हमारे समाज को लील लेगी। सामाजिक क्रांति का यह काम  करने में हमारी संसदीय राजनीति विफल हो गयी है। आज की जरूरत है कि सभी सामाजिक संगठन इस मुहीम में एकजुट हों।

सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को  निर्देश दिया है कि उन जिलों को अंकित करें जहाँ भीड़ के द्वारा हत्याओं की संख्यां बढ़ रही है, हत्या के आरोपियों को कड़ी सज़ा का प्रावधान हो, पुलिस को सजग किया जाए आदि-आदि। लेकिन यह सब तो हत्या हो जाने के बाद की बातें हैं और क़ानून के डर से कुछ रुका नहीं है आजतक। सुप्रीम कोर्ट को भी इसके कारणों को समझने के लिए एक टास्क फ़ोर्स बनाना चाहिए।

 

30Nov
चर्चा मेंदिल्लीदेशसमाज

किसानों का संसद मार्च

एक बार फिर दिल्ली का रंग लाल हो गया है। लाखों किसान देश के अलग-अलग कोने से...

14Oct
चर्चा मेंदिल्लीदेशमुद्दा

हिन्दी के अखबारों और न्यूज चैनल्स ने एम.जे.अकबर पर लगे आरोपों की डिटेल्स क्यों नहीं छापी?

14 महिला पत्रकारों ने मुबशिर जावेद अकबर पर संपादक रहते हुए शारीरिक छेड़छाड़ के...

10Aug
दिल्लीपंजाबराज्यसामयिकस्तम्भहरियाणा

SYL नहर : पानी भले नहीं बही… बेधड़क बह रही राजनीति…

sablog.in डेस्क :- SYL (सतलज-यमुना लिंक) नहर। हरियाणा-पंजाब के बीच की नहर। करीब छह दशक हो...

23Jul
चर्चा मेंदिल्लीदेशदेशकाल

चुनावी जुमला हल नहीं है बालिका खतने का

बालिका जननांग का अंगच्‍छेदन (फिमेल जेनिटल म्‍यूटिलेशन – एफजीएफ) या सरल भाषा...

14May
चर्चा मेंदिल्लीदेश

मोदी नीति के डिजाइन में दिक्कत है!

हाथ उठाइये मित्रों… अच्छे दिन आए की नहीं आए। मोदी…मोदी…! ये बीजेपी के...

22Jan
चर्चा मेंदिल्लीदेशसामयिक

बवाना फ़ैक्टरी की आग में 17 महिला श्रमिकों की भयावह मौत की परवाह किसे है ?

इस अग्निकांड में जो 17 मज़दूर जलकर मरे, वे सभी महिलाएँ हैं. सबसे हृदयविदारक यह...

06Jan
Uncategorizedचर्चा मेंदिल्लीसामयिक

केजरीवाल : यथार्थ के आगे चकनाचूर आदर्श!

एक पुरानी कहावत है- ‘दूध का जला, छाछ भी फूंक-फूंक कर पीता है’. ऐसी कहावतें...

06Jan
चर्चा मेंदिल्लीदेशमुद्दा

काले धन का सबसे बड़ा डॉन- इलेक्टोरल बांड

सरकार के लिए पारदर्शिता नया पर्दा है। इस पर्दे का रंग तो दिखेगा मगर पीछे का...

03Jan
चर्चा मेंदिल्लीदेशबिहार

ललित बाबू और लालू संग नियति का खेल ही तो जीवन का संदेश है

बिहार की राजनीति में ललित बाबू के बाद आज तक लालू यादव से बड़ा कोई जननेता नहीं...