Category: देश

अंतरराष्ट्रीयचर्चा मेंदेश

हंसने से रास्ते कटने वाले नहीं हैं!

चढ़ रहे हैं. चढ़ने की होड़ लगी है. चढ़े जा रहे हैं. लगातार. कितना चढ़ेंगे? किसी को पता नहीं. कब तक चढ़ेंगे? नहीं जानते. बस चढ़े जा रहे हैं. ऊपर. और ऊपर. मानों रेस लगी है. कौन कितना ऊपर चढ़ सकता है? कौन हिमालय की ऊंचाइयों तक पहुंच सकता है? कौन सचिन से ज्यादा रन बना सकता है? कौन रिकॉर्डधारी हो सकता है? रेस में सब लगे हैं. अनथक.

हां, वे तो थक भी नहीं सकते. उनमें जान तो है नहीं, वे बस दूसरों को रफ्तार देने के काम आते हैं. जी, डीजल-पेट्रोल. देखिए. चढ़ने की रफ्तार देखिए. अपनी गाड़ी की चाल देखिए. पंप पर पहुंच कर जेब का हाल देखिए. आप भी तो चढ़ ही रहे हैं. कोई मोटरसाइकिल पर. कोई कार पर. कोई हवाईजहाज पर. कोई निजी जेट पर. सब चढ़े हुए हैं.

सुनी-सुनाई मानें तो कोई झूठ पर चढ़ा हुआ है. कोई हवा में उड़ने की कोशिश कर रहा है. चढ़ते-चढ़ते कोई इतना चढ़ गया कि ‘तक्षशिला’ तक को बिहार पहुंचा गया. कोई बात नहीं. हो जाता है. अति उत्साह में ऐसा हो जाता है. कई बार होता है. आपके साथ भी होता होगा. तो क्या हुआ, कि आपके प्रधान सेवक के साथ भी हो गया. जाने दीजिए. कोई बात नहीं.

लेकिन नोटबंदी की चढ़ाई वैसी नहीं रही, जैसी उन्होंने सोची थी. हालांकि ये तो आप आज तक नहीं जान पाए कि उन्होंने क्या सोचा था. हो सकता है, वे खुद भी ना जान पाए हों कि क्या सोच कर ऐसा किया. नोटबंदी के बाद जमा हुए नोटों की गिनती ने ‘नामवालों’ की पूर्व सरकार के मुखिया को जरूर राहत पहुंचाई होगी. वे यही सोच कर चढ़ बैठेंगे कि उतना ज्यादा भ्रष्टाचार नहीं हुआ. उतना काला धन देश में नहीं था. 0.3 फीसदी को छोड़ कर सारा तो जमा हो गया. कहां हुआ भ्रष्टाचार? कहां है काला धन ? वे खुशी में चढ़े जा रहे होंगे.

(ये उनके लिए अच्छे दिन ही तो हैं. खामखां…)

 

गिरने की होड़ लगी है. गिर रहे हैं. गिरे जा रहे हैं. कितना गिरेंगे, किसी को पता नहीं. कब तक गिरेंगे? ये भी नहीं जानते. बस गिर रहे हैं.

जब वे कहते थे कि गिरने की होड़ लगी है, तब वे प्रधान सेवक नहीं थे. सिर्फ एक राज्य के ही सेवक थे. तब वे खूब कहते थे-गिरने की होड़ लगी है. रुपये में और सरकार में होड़ लगी है. कौन कितना गिरता है? हालांकि उनके सिपाहसालार बताते हैं कि पूरी दुनिया की करंसी गिर रही है. तो क्या बुरा है कि हमारा रुपया भी औंधे मुंह गिरे?

इधर जिनके अच्छे दिन आए हैं, उनके राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट किया. लिखा-‘अर्थव्यवस्था की स्थिति खराब है और मोदी सरकार ने चुप्पी साध रखी है’.

अब तो हद ही हो गई है. जब प्रधान सेवक बोलते हैं तो आप कहते हैं कि झूठ बोल रहे हैं, जब चुप हैं तो आपको चुप्पी भारी लग रही है. आपको मनमोहन सिंह याद नहीं आते? जब वे कहते थे कि ‘हजार जवाबों से अच्छी है मेरी खामोशी, ना जाने कितने सवालों की आबरू रखी’ तो आप आहत भी नहीं होते थे.

अच्छा है कि रुपये में और पेट्रोल में रेस लगी है. पहले शतक कौन जमाता है? आप भी तब तक जेब संभालिए. क्या पता किसी के गिरने और चढ़ने के चक्कर में ‘कट’ ना जाए.

 

राजन अग्रवाल

लेखक पत्रकार हैं.

rajan.journalist@gmail.com

 

19Aug
देशदेशकालमुद्दाराज्य

केरल में राष्ट्रीय-मानवीय आपदा…

sablog.in डेस्क – टाइम्स ऑफ़ इंडिया में कार्टून है कि सारे कैमरे अटल जी की ओर लगे...

17Aug
आवरण कथादेश

अभी अटल जी ही!

sablog.in डेस्क- जब प्रधानमंत्री थे तब उन्होंने सरकार का रिमोट कंट्रोल संघ के हाथ...

16Aug
आवरण कथादेश

पूर्व पीएम अटल जी का 93 साल की उम्र में निधन…

sablog.in डेस्क – पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी का एम्स में निधन। पिछले नौ सप्ताह...

05Aug
आवरण कथाचर्चा मेंदेशमीडियामुद्दास्तम्भ

जीत में, आश्चर्य में, डर में भी, खामोश नहीं रहती पत्रकारिता…

sablog.in डेस्क- ये रास्ता कहां जाता है?… जी हां, यह सवाल आप से है, आप उन दर्शकों से जो...

03Aug
चर्चा मेंदेशमुद्दा

हमारे समय के समाज में विकल्प हैं क्या?

sablog.in समय के अलग अलग दौर होते हैं और हर दौर में समय के मायने बदल जाते हैं. हमारे...

02Aug
चर्चा मेंदेशमीडियासामयिक

मास्टर स्ट्रोक अब बिना बाधा के आएगा, मास्टर (पुण्य प्रसून वाजपेयी) नहीं दिखेगा

#एबीपीन्यूज़ में पिछले 24 घंटों में जो कुछ हो गया, वह भयानक है. और उससे भी भयानक...

02Aug
चर्चा मेंदेशमुनादी

यह अराजक एकध्रुवीयता

मुनादी जनता पार्टी से अलग होकर जो भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) अस्तित्व में आयी...

02Aug
चर्चा मेंदेश

कीर्तन मंडली और घुसपैठिए

भाजपा की सुसंगठित कीर्तन मंडली उन सभी 40 लाख लोगों को घुसपैठिया कहकर हल्ला...

30Jul
Uncategorizedदेशसामयिकसाहित्य

प्रेमचंद का साहित्यिक चिंतन

sablog.in डेस्क – यों तो प्रेमचंद जैसे कालजयी लेखक को तब तक नहीं भूला जा सकता है...