Category: चर्चा में

चर्चा मेंमुद्दा

गंगा ने बुलाया तो था लेकिन आपने किया क्या?

“गंगा” नाम सुनते ही मन श्रद्धा से झुक जाता है. गंगा केवल एक नदी नहीं, भारतीय अस्मिता का अभिन्न अंग है. लेकिन पिछले कुछ दशकों से इसकी अविरल, निर्मल धारा अब न केवल बाधित होती जा रही है, इसका जल भी दूषित होता जा रहा है. जगह जगह बाँध बनाकर नदी को मानो जान-बूझकर उजाड़ा जा रहा है. चुनाव के आते ही इस गंगा की दुहाई देने वाले, “माँ गंगा ने मुझे बुलाया है” का उद्घोष करने वाले तो चुनाव जीतने के बाद इस माँ को भूल गए, लेकिन एक 86 वर्ष का संत, संत सानंद, नहीं भूला.


कोई ऐसा वैसा संत नहीं. यह संत कभी IIT कानपूर में सिविल और एनवायरमेंटल इंजीनियरिंग के प्रोफेसर और अध्यक्ष थे. पर्यावरण के प्रति समर्पित यह संत आज 110 दिन के उपवास के बाद जल भी त्याग रहे हैं. किसलिए? केवल गंगा की अविरल और निर्मल धारा के लिए. ताकि कभी जल से भरपूर, कभी न सूखने वाली गंगा पर आज जहां देखो बाँध बना दिए गए हैं. और तो और अब इस नदी में 9 महीने ही पानी रह जाता है. और वो भी दूषित!


सरकार आंकड़े गिनाती है, कई हज़ार करोड़ की स्कीम सुनाती है, लेकिन सब व्यर्थ. क्या हम इस संत की आवाज़ बनेंगे? गंगा केवल एक नदी नहीं, हमारी सभ्यता की प्राणदायिनी है. क्या हम माँ के दर्द को समझेंगे?
#Fight4Ganga

योगेंद्र यादव

लेखक स्वराज अभियान के संयोजक हैं.

यह लेख योगेंद्र यादव के फेसबुक पेज से साभार लिया गया है.

07Oct
चर्चा मेंमध्यप्रदेशसामयिक

“हिन्दू” बनाम “हिन्दुतत्व” की राजनीति

देश की राजनीति इस समय हिन्दुतत्व के उभार के दौर से गुजर रही है. आज ज्यादातर...

27Sep
चर्चा मेंदेशदेशकालस्तम्भ

आज से पति, पत्नी और ‘वो’ का रिश्ता अपराध नहीं- सुप्रीम कोर्ट

sablog.in  डेस्क- सुप्रीम कोर्ट ने साफ कर दिया है कि अब पति, पत्नी और ‘वो’ का...

23Sep
चर्चा मेंदेशकालमीडियास्तम्भ

एन ईवनिंग इन पेरिस-डील, डीलर और पीएम मोदी…

sablog.in डेस्क – एफ़िल टावर के नीचे बहती सीन नदी की हवा बनारस वाले गंगा पुत्र...

04Sep
अंतरराष्ट्रीयचर्चा मेंदेश

हंसने से रास्ते कटने वाले नहीं हैं!

चढ़ रहे हैं. चढ़ने की होड़ लगी है. चढ़े जा रहे हैं. लगातार. कितना चढ़ेंगे? किसी को...

21Aug
अंतरराष्ट्रीयचर्चा में

बहादुर महिला- ज़िंदाबाद!!

जूली एनी जेंटर—जी हाँ, यही नाम है। आखिर इन्होंने क्या बहादुरी की? क्या पर्वत...

05Aug
आवरण कथाचर्चा मेंदेशमीडियामुद्दास्तम्भ

जीत में, आश्चर्य में, डर में भी, खामोश नहीं रहती पत्रकारिता…

sablog.in डेस्क- ये रास्ता कहां जाता है?… जी हां, यह सवाल आप से है, आप उन दर्शकों से जो...

03Aug
चर्चा मेंदेशमुद्दा

हमारे समय के समाज में विकल्प हैं क्या?

sablog.in समय के अलग अलग दौर होते हैं और हर दौर में समय के मायने बदल जाते हैं. हमारे...

02Aug
चर्चा मेंदेशमीडियासामयिक

मास्टर स्ट्रोक अब बिना बाधा के आएगा, मास्टर (पुण्य प्रसून वाजपेयी) नहीं दिखेगा

#एबीपीन्यूज़ में पिछले 24 घंटों में जो कुछ हो गया, वह भयानक है. और उससे भी भयानक...

02Aug
चर्चा मेंछत्तीसगढ़मध्यप्रदेश

सभी के लिये स्वच्छ जल और स्वच्छ भारत का सपना

पानी के अभूतपूर्व संकट से जूझ रहे टीकमगढ़ जिले के पलेरा ब्लॉक स्थित पारा गावं...