Category: आवरण कथा

आवरण कथादेश

अभी अटल जी ही!

sablog.in डेस्क- जब प्रधानमंत्री थे तब उन्होंने सरकार का रिमोट कंट्रोल संघ के हाथ नहीं जाने दिया। आज ‘राष्ट्रीय सहारा’ मेरे हमनाम पत्रकार ने रिपोर्ट में बताया कि के. एस. सुदर्शन का दबाव था, राष्ट्रीय सलाहकार बृजेश मिश्र और योजना आयोग उपाध्यक्ष एन. के. सिंह को पद से हटाया जाय। वाजपेयी राज़ी न थे। आखिर सुदर्शन ने संघ के एक कार्यक्रम में खुले मंच से इन दोनों की आलोचना की। फिर भी अटल जी उन्हें नहीं हटाया। एक दिन संघ ने अटल-आडवाणी की जोड़ी को विधिवत फटकारा। उन्होंने ‘बहुत छींटे पडे़’ का प्रसिद्ध बयान तो दिया पर संघ के आदेशों को अविवेकपूर्वक स्वीकार नहीं किया।

 
आज क्या स्थिति है? संघ वर्तमान प्रधानमंत्री की सार्वजनिक प्रशंसा किसी कारण करता होगा! गुजरात दंगों, बल्कि जनसंहार, के बाद अटल जी ने जिसे ‘राजधर्म’ न निभाने की तोहमत से नवाज़ा था, उसके समय संघ के हाथ में सत्ता का रिमोट कंट्रोल पूरी तरह आ चुका है। संघ सीधे ‘सलाह’ देता है; सरकार उस सलाह से चलती है।
ऐसे में अटल जी याद आते हैं तो कोई आश्चर्य नहीं। वे संघ के थे पर मिथ्यावाद में संघ के पूर्ण अनुयायी नहीं प्रतीत होते। वे ही थे जो साहस के साथ कह सकते थे—क्वाँरा हूँ, ब्रह्मचारी नहीं; या, पत्रकारों के पूछने पर स्वीकार कर सकते थे कि हाँ, मैं ‘बीफ’ का शौक़ीन हूँ! उनकी कविता बहुत सार्वजनिक हो रही है कि आज़ादी अधूरी है। जब कम्युनिस्ट पार्टी ने आज़ादी को अधूरी कहा तब सब के सब पिल पड़े थे। उसे ग़द्दार वग़ैरह कहा था। आज अटल जी के बहाने इसी बात की सराहना हो रही है! ये सराहना करने वाले न इतिहास जानते हैं, न कविता समझते हैं।
बहरहाल, मैं 1971-72 से 1977-78 के वे दिन याद कर रहा हूँ जब साउथ एवेन्यू में अटल जी, राजनारायण, चंद्रशेखर आदि रहते थे। सबसे मिलने और बहस करने के अलावा हँसी-मज़ाक़ हो जाता था। अटल जी फ़िल्मों के शौक़ीन थे। हेमा मालिनी की ‘सीता और गीता’ २५ बार देखी थी! वे सिनेमाहॉल में हमेशा सेकेंड शो देखते और अकेले न होते। महिलाएँ हमेशा सुंदर रहती थीं। हम लोग ‘नेताजी, नमस्कार’ कहे बिना न मानते। हँसकर, गर्दन थोड़ा झटककर जवाब देते और कहते, तुम लोग बहुत शरारती हो!
 
बात-चीत में ज़िंदादिल और मज़ाक़िया! हम लोग कुछ उद्धत थे। साहित्य में अज्ञेय हों या राजनीति में वाजपेयी, अपनी ख़ुराफ़ात से हम बाज़ न आते। उसका जवाब वे मज़े में देते। बुरा नहीं मानते थे। हँसी-मज़ाक़ में बेजोड़! अंतिम बार 1997 में मिले, जब वे विदेशमंत्री थे। अपनी पत्रिका ‘सरोकार’ के लिए परिसंवाद में उनसे लेख के लिए। क्रांतिकारी बुद्धिजीवी अनूप चौधरी साथ थे और पिता बद्रीनाथ तिवारी भी। पर वह मुलाक़ात अच्छी न थी। मैं कहकर आया कि अब आप वह नहीं रहे। हम अब नहीं मिलेंगे। बोले, पहले विपक्ष में थे, अब कर्तव्य बदल गये हैं। हमने कहा, लेख देने में क्या समस्या है? पता चला, संघ ने वामपंथियों की पत्रिका में मना किया है। यह संकेतों से पता चला। संघ का दबाव यहाँ काम कर रहा था।
 
बहरहाल, उनकी ज़िंदादिली याद है और रहेगी। कवि वे साधारण थे, केवल तुकबंदी करते थे। पर आदमी अच्छे थे। अगर आज उनके उत्तराधिकारी उनसे कुछ सीख पाते, केवल मौखिक गुणगान न करते, तो स्थिति बेहतर होती।
—अजय तिवारी
लेखक वरिष्ठ आलोचक हैं.
Mob- 97171 70693
Email – tiwari.ajay.du@gmail.com
16Aug
आवरण कथादेश

पूर्व पीएम अटल जी का 93 साल की उम्र में निधन…

sablog.in डेस्क – पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी का एम्स में निधन। पिछले नौ सप्ताह...

05Aug
आवरण कथाचर्चा मेंदेशमीडियामुद्दास्तम्भ

जीत में, आश्चर्य में, डर में भी, खामोश नहीं रहती पत्रकारिता…

sablog.in डेस्क- ये रास्ता कहां जाता है?… जी हां, यह सवाल आप से है, आप उन दर्शकों से जो...

31Jul
आवरण कथाचर्चा मेंराज्यहरियाणा

यह ‘मनोहर राज’ है ‘म्हारी छोरियों’… यहां बस डायलॉग बोले जाते हैं…

sablog.in डेस्क- ‘म्हारी छोरियां, छोरो से कम है के’… फिल्म ‘दंगल’… पहला पोस्टर और...

29Jul
आवरण कथाचर्चा मेंदेशदेशकाल

पाखण्ड, तेरी जय! धर्मनिरपेक्ष संविधान को धता बताने की विद्या भाजपा से ज़्यादा कौन जानता है?

sablog.in डेस्क- हाँ, यह सवाल कल 27 जुलाई को अमित शाह की इलाहाबाद यात्रा के बाद ज़रूर...

23Jul
आवरण कथासिनेमासिनेमास्त्रीकाल

“पति” में बसता “पत्नी” का “अभिमान”…

sablog.in डेस्क- “अभिमान” आखिर होता है क्या? इसे समझने का कोई पैमाना है या हम...

22Jul
आवरण कथाचर्चा मेंसिनेमासिनेमास्तम्भ

माफ करें खेतान, आपने ‘धड़क’ के बहाने ‘सैराट’ का कत्ल क्यों किया?

sablog.in डेस्क- मराठी फिल्म ‘सैराट’ को अगर आपने देखा होगा तो आपके लिए बहुत कुछ होगा,...

20Jul
आवरण कथाशख्सियतसामयिकसाहित्यस्तम्भ

‘अब कारवां गुजरने के बाद गुबार देखना मुनासिब नहीं’

साल 2011 का अक्टूबर का महीना था शायद, झारखंड की सांस्कृतिक राजधानी देवघर और...

21Dec
आवरण कथागुजरातचर्चा मेंदेश

ओछी भाषा: PM अपनी ही बोई फसल काट रहे हैं

हर विषय की अपनी भाषा होती है. इसी लिहाज से राजनीति की भी एक मर्यादित भाषा होती...

11Dec
आवरण कथाचर्चा मेंदेश

ग्लोबलाइजेशन की तार्किक परिणति

आज पूरी दुनिया के अधिकांश देश एक ध्रुवीय अर्थव्यवस्था की तरह एक ध्रुवीय...