चर्चा में

अमेज़न घाटी, नदी और जंगल का ख़जाना

 

  • सैयद इकबाल खुशनाम

 

अमेज़न ऑनलाइन शॉपिंग का नाम जिस अमेज़न के जंगल और नदी पर रखा गया है वह दक्षिण अमेरिका में स्थित हैI अमेज़न नदी दक्षिण अमेरिका से होकर बहती है जो आयतन में दुनिया की सबसे बड़ी नदी और लम्बाई को देखते हुए दूसरी नदी हैI अमेज़न नदी ब्राजील, पेरु, बोलविया, कोलम्बिया तथा इक्वाडोर से होकर बहती है। यह पेरु के एँडीज़ पर्वत-माला से निकलते हुए पूर्व की तरफ़ बहती है| और अटलांटिक महासागर से जा  मिलती है। इसकी विशाल घाटी की जल-प्रवाह दर इसके बाद की आठ नदियों के जोड़ से भी ज़्यादा है। इसकी विस्तृत लम्बाई चौड़ाई के कारण इस नदी पर पुलों की बहुत कमी है। अमेज़न नदी से लगा हुआ अमेज़न का जंगल करीब साढ़े पांच  करोड़ साल पहले वजूद में आयाl पिछले इक्कीस हज़ार  सालों में यहाँ बहुत सारे बदलाव हुए हैं और जंगल का इलाक़ा बहुत सिमट गया है इसके बावजूद यह पूरी दुनिया के वर्षावनों का आधा से ज्यादा हिस्सा हैl जिसके पचपन लाख वर्ग किलोमीटर का दायरा नौ देशों की जंगल के 390  अरब वृक्षों में सोलह हज़ार से ज्यादा प्रजातियां मिलती हैं और साथ ही ये 400 से ज्यादा आदिम जनजातियों का भी बसेरा है जिनमें जंगल और जंगल के जीव एक दूसरे का भरण पोषण करते रहे हैं। अमेज़न नदी के आसपास फैले वर्षा वन धरती पर रहस्यमय ख़जाने की हैसियत रखते हैं। दुनिया की 10 में से एक प्रजाति इन्हीं जंगलों में पाई जाती है। सत्तर लाख वर्ग किलोमीटर में फैले ये जंगल 427 स्तनपायी जानवरों, 428 उभयचरों, 1294 चिड़ियों, 3000 मछलियों, 40 हजार पौधों और 25 लाख कीड़ों की प्रजाति के घर हैं। ये दक्षिणी अमेरिकी प्रायद्वीप में ब्राजील, पेरू, कोलंबिया, वेनेजुएला, इक्वाडोर, बोलिविया, गयाना, सूरीनाम और फ्रेंच गयाना में फैले हैं।

अमेज़न के वर्षावन जो दक्षिण अमेरिका के अमेज़न बेसिन के एक बड़े भूभाग पर फैले हैं। यह बेसिन सत्तर लाख वर्ग किलोमीटर क्षेत्र पर फैला है जिसमें से पचपन लाख वर्ग किलीमीटर पर वर्षावन खड़े है। यह क्षेत्र नौ देशों की सीमाओं में पड़ता है। वनों का लगभग साठ प्रतिशत भाग ब्राजील की सीमा में है। इसके बाद पेरू में तेरह प्रतिशत और अन्य देशों कोलंबिया, वेनेजुएला, ईक्वाडोर, बोलिविया, गुयाना, सूरीनाम और फ्रेंच गुयाना में ये वन फैले हुए हैं। ब्राजील में अमेज़न के जंगलों में तस्कर अवैध रूप से सोने की खुदाई करने में लगे हैं। इससे पर्यावरण को भी नुकसान पहुंच रहा है और यहाँ रहने वाले आदिवासियों को भी। पिछले एक दशक में अमेज़न के जंगलों में पहली बार इतनी भीषण आग लगी हैI देश के उत्तरी राज्य रोरैमा, एक्रे, रोंडोनिया और अमेज़ोनास इस आग से बुरी तरह प्रभावित हैंI जनवरी मंम ब्राज़ील के नए राष्ट्रपति जेयर बोलसोनारो के सत्ता संभालने के बाद से जंगल ज़्यादा कटने लगे हैं I धरती को 20 प्रतिशत ऑक्सीजन ब्राज़ील के वर्षावनों से मिलती हैI नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर स्पेस रिसर्च ने अपने सैटेलाइट आंकड़ों में दिखाया है कि 2018 के मुकाबले इसी दरम्यान आग की घटनाओं में 85 प्रतिशत की वृद्धि हुई हैI

पर्यावरण को लेकर लंबे समय से जेयर बोलसोनारो ने गैर सरकारी संस्थाओं  पर आरोप लगाया  कि उन्होंने उनकी सरकार को बदनाम करने के लिए खुद ही जंगलों में आग लगाई हैI बाद में उन्होंने कहा कि आग पर नियंत्रण करने में सरकार के पास पर्याप्त संसाधन नहीं हैंI आग की घटनाओं से प्रभावित उत्तरी छेत्रों में रोराइमा में 141%, एक्रे में 138%, रोंडोनिया में 115% और अमेज़ोनास में 81% वृद्धि हुई हैI जबकि दक्षिण में मोटो ग्रोसो डूो सूल में आग की घटनाएँ 114% बढ़ी हैंI कुछ लोग कहते हैं हमसे क्या लेना अमेरिका की समस्या हैI बहुत दुनिया के ऊपर नज़र रखता है अपनी खबर नहींI दुनिया भर में आग लगाता फिरता है अपनी आग बुझाई नहीं जा रही I लेकिन वह अनभिज्ञ हैं कि इससे अमेरिका के बाहर के देश भी बुरी तरह प्रभावित होंगेI अमेज़ोनास ब्राज़ील का सबसे बड़ा राज्य है, जहाँ आपात स्थिति की घोषणा कर दी गई है I आग से पैदा हुआ धुँवा पूरे अमेज़न में फैल गया है और इससे भी आगे बढ़ रहा है I यूरोपीय संघ के कॉपर्निकस एटमास्फ़ियर मानिटरिंग सर्विस के अनुसार, धुआं अटलांटिक कोस्ट तक फैल रहा है I यहाँ तक कि 2000 मील दूर साओ पाउलो का आसमान धुएँ से भर गया हैI

आग से बड़े पैमाने पर कार्बन डाई ऑक्साइड पैदा हो रहा है और कैम्स के अनुसार, इस साल अभी तक 228 मेगाटन के बराबर कार्बन डाई ऑक्साइड पैदा हुई, जोकि 2010 के बाद सर्वाधिक हैI इसके अलावा कार्बन मोनो ऑक्साइड गैस भी पैदा हो रही है, जोकि ऑक्सीजन की अनुपस्थिति में लकड़ी के जलने से पैदा होती है I ज़हरीली कार्बन मोनो ऑक्साइड दक्षिणी अमरीका के तटीय इलाकों से आगे जा रही हैI वनस्पति और जीव जंतुओं की 30 लाख प्रजातियों और 10 लाख मूलनिवासियों के आवास वाले अमेज़न बेसिन जलवायु परिवर्तन को नियंत्रित करने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करते हैं, क्योंकि इसके जंगल हर साल लाखों टन कार्बन उत्सर्जन को सोख लेते हैं I लेकिन जब पेड़ काटे या जलाए जाते हैं, उनके अंदर जमा हुआ कार्बन वायुमंडल में चला जाता है और वर्षावन की कार्बन अवशोषण की क्षमता भी जाती रहती है I अमेज़न बेसिन के अन्य देशों में भी इस साल आग की घटनाएँ बढ़ी हैं I इसमें वेनेज़ुएला दूसरे नंबर पर है जहाँ आग की 2600 घटनाएँ सामने आई हैं, जबकि आग की 17000 घटनाओं के साथ बोलीविया तीसरे नंबर पर है. देश के पूर्वी हिस्से में आग बुझाने के लिए बोलीविया की सरकार ने आग बुझाने वाले एयर टैंकरों को किराए पर लिया है I यहाँ आग अभी तक छह वर्ग किलोमीटर में फैल चुकी हैI इलाके में अतिरिक्त राहत और बचावकर्मी भेजे गये हैं और आग से बचकर निकलने वाले जानवरों के लिए जंतु-विहार बनाए जा रहे हैंI

 

लेखक गीतकार, गज़लकार एवं चित्रकार(टाइगरमेन कॉमिक्स) हैं|

सम्पर्क- +917668773047, iqbalahmad1002357@gmail.com

.

 

Facebook Comments
. . .
सबलोग को फेसबुक पर पढ़ने के लिए पेज लाइक करें| 

लोक चेतना का राष्ट्रीय मासिक सम्पादक- किशन कालजयी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *